English മലയാളം

Blog

लखनऊ/हाथरस: 

हाथरस कांड लगातार कानूनी दांव-पेंच में फंसता जा रहा है. इस केस में पुलिस ने कई आरोपों में अब तक 19 एफआईआर (First Information Report) दर्ज किए हैं. इनमें से FIR नंबर 151 सबसे अहम है. इस FIR में एक बड़ी आपराधिक साजिश की बात की गई है. इस FIR में राजद्रोह (sedition ) और आपराधिक साज़िश समेत 20 धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज़ किया गया है. हालांकि इसमें किसी का नाम नहीं लिया गया है. ये FIR हाथरस के चांदपा थाने के SI अवधेश कुमार द्वारा दर्ज़ कराई गई है.

Also read:  'हाथरस मामले में नहीं हुआ रेप', फोरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर यूपी के वरिष्‍ठ पुलिस अफसर का दावा

FIR में क्या-क्या कहा गया है?

– एक पूरी सुनियोजित आपराधिक साज़िश के तहत पीड़ित के परिवार को बरगलया गया.

– अराजक तत्वों ने पीड़ित परिवार को प्रदेश सरकार के ख़िलाफ़ ग़लतबयानी करने के लिए 50 लाख का प्रलोभन दिया.

– अराजक तत्व प्रदेश में वर्ग और जाति विशेष को भड़काकर प्रदेश में अशांति फ़ैलाने का प्रयास कर रहे थे.

Also read:  हाथरस कांड के मुख्य आरोपी ने पुलिस को लिखी चिट्ठी : 'हमारी दोस्ती के खिलाफ था उसका परिवार, उन्होंने की हत्या'

– पीड़ित परिवार पर बार बार ये दबाव बनाया गया कि वो बोलें कि गैंगरेप हुआ था जबकि पहली शिकायत में पीड़ित परिवार ने मारपीट की बात कही थी.

– प्रदेश सरकार की छवि खराब कर पूरे प्रदेश में सनसनी फैलाने का प्रयास किया गया और अमन-चैन छिन्न भिन्न करने का प्रयास किया गया.

– सोशल मीडिया पर लोगों को भड़काने के लिए तमाम झूठी तस्वीरें और आडियो वायरल कराए गए.

Also read:  शरद यादव की बेटी सुभाषिनी ने थामा कांग्रेस का 'हाथ', बिहार विधानसभा चुनाव में मिल सकता है टिकट

– यह केस तब फाइल किए गए थे, जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा किया था कि कुछ लोग उनकी सरकार की प्रगति देखकर हाथरस कांड का गलत फायदा उठा रहे हैं. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी प्रशांत कुमार ने सोमवार को दर्ज किए गए मामलों पर कहा था कि ‘हाथरस में एक गहरी साजिश रची गई है. हम सच का पता लगाएंगे.’