English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

असम में प्राथमिक विद्यालयों को छोड़कर सभी शिक्षण संस्थानों को कोविड-19 (Covid-19) नियमों का पालन सुनिश्चित करते हुए सोमवार को फिर से खोला गया. ये संस्थान महामारी के कारण सात महीने से बंद थे. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कक्षा पांच तक के छात्रों के लिए कक्षाएं बंद रहीं, लेकिन कक्षा छह से छात्रों के लिए फिर से कक्षाओं की शुरूआत हुई. राज्य में कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, विश्वविद्यालय, पॉलिटेक्निक, निजी शिक्षण संस्थान, सरकारी और निजी प्रशिक्षण और कोचिंग संस्थान सरकारी आदेश के अनुसार फिर से खुल गए.

Also read:  UPSC CAPF final Results 2019: जारी हुए परिणाम, 264 उम्मीदवारों का हुआ चयन

संस्थानों के प्रमुखों के अनुसार उन्होंने सैनिटाइजेशन पर मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन किया. छात्रों, शिक्षकों और गैर-शिक्षक स्टॉफ को मास्क पहने हुए और सामाजिक दूरी बनाये रखने संबंधी नियमों का पालन करते हुए देखा गया. छात्रों की उपस्थिति को अनिवार्य नहीं बनाया गया है और उन्हें ऑनलाइन कक्षाओं का चयन करने की स्वतंत्रता दी गई है. हालांकि जो छात्र कक्षाओं में आना चाहते है उन्हें एसओपी के अनुसार अपने अभिभावकों से अनापत्ति प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने की जरूरत होगी.

Also read:  UPSC कैंडिडेंट्स को मिली राहत, कोरोना की वजह से परीक्षा न देने वालों को मिलेगा एक्स्ट्रा मौका

राज्य के शिक्षा और स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा, ‘‘असम के लिए आज एक चुनौतीपूर्ण दिन है. स्कूलों और कॉलेजों को आज से फिर से खोल दिया गया है. मुझे स्कूलों को फिर से खोलने के इस फैसले पर दो राय के बारे में पता है.” सरमा ने चेताया कि यदि स्कूलों और कॉलेजों ने एसओपी का पालन नहीं किया तो सरकार का उद्देश्य असफल हो जायेगा.