English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

भारत में कोरोनावायरस के लिए वैक्सीन बना रही फार्मा कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने गुरुवार को बताया कि स्वास्थ्य कर्मचारियों और बुजुर्गों के लिए कोविड-19 की वैक्सीन अगले साल अप्रैल तक बाजार में आ सकती है. उन्होंने यह भी बताया कि आम लोगों के लिए वैक्सीन के दो जरूरी डोज़ की कीमत 1,000 रुपए तक हो सकती है. हालांकि, यह आखिरी ट्रायल के नतीजों और नियामक संस्थाओं से मिली मंजूरी पर निर्भर करेगा.

Also read:  COVID-19 वैक्सीन को मंज़ूरी के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ने किया आवेदन

उन्होंने  Hindustan Times Leadership Summit (HTLS), 2020 में कहा कि संभव है कि साल 2024 तक हर भारतीय को कोरोना के खिलाफ बनाई गई वैक्सीन लगाई जा चुकी होगी.

Also read:  भारत में COVID-19 से मरने वालों की संख्या हुई एक लाख से अधिक

पूनावाला ने कहा कि ‘भारत के हर व्यक्ति को टीका लगाने में दो या तीन साल लगेंगे. यह केवल आपूर्ति में कमी के कारण नहीं बल्कि इसलिए कि आपको बजट, टीका ,साजो सामान, बुनियादी ढाँचे की जरूरत है और फिर टीका लगवाने के लिए लोगों को राजी होना चाहिए और यह वे कारक हैं जो पूरी आबादी के 80-90 प्रतिशत लोगों को टीकाकरण के लिए जरूरी है.’