English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-03-03 132319

 यूक्रे और रुस में हो रहे संघर्ष के बीच भारत के रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने गुरुवार को कहा कि ऑपरेशन गंगा सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहा है।

अजय भट्ट ने कहा कि यूक्रेन से बचाए गए भारतीय नागरिकों का स्वागत किया जो दिल्ली के पास हिंडन एयरबेस पर चौथे भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के विमान से पहुंचे। अजय भट्ट ने फ्लाइट में भारतीय नागरिकों से कहा मैं आपकी मातृभूमि में सुरक्षित वापसी पर आप सभी का स्वागत करता हूं। प्रधानमंत्री मोदी खुद सभी घटनाक्रमों की निगरानी कर रहे हैं।”

हम यूक्रेन से लौटने वाले हर छात्र की देखभाल कर रहे

वहीं इस संबंध में न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए, अजय भट्ट ने कहा, हम यूक्रेन से लौटने वाले हर छात्र की देखभाल कर रहे हैं। हमारे चार केंद्रीय मंत्री यूक्रेन के विभिन्न पड़ोसी देशों में निकासी अभियानों के हर पहलू का ध्यान रख रहे हैं। ऑपरेशन गंगा सफलतापूर्वक प्रगति कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑपरेशन गंगा के स्तर को बढ़ाने के लिए वायु सेना को बचाव अभियान में शामिल होने के आदेश जारी किए थे। अमेरिकी C-17 ग्लोबमास्टर्स और IL-76 परिवहन विमान लगभग 400 यात्रियों के साथ लंबी दूरी तक उड़ान भरने में सक्षम हैं।

Also read:  Gujarat Civic Body Polls: गुजरात नगर निगम चुनावों में बड़ी जीत की तरफ बीजेपी

3,000 से अधिक भारतीय नागरिकों को वापस लाया जाएगा

C-17 परिवहन विमान ने काबुल से नागरिकों और अधिकारियों को निकालने में बड़ी मदद की थी जब तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया और अमेरिकियों को वहां से बाहर निकलने के लिए मजबूर कर दिया। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा कि हंगरी, रोमानिया, स्लोवाकिया और पोलैंड से गुरुवार को नौ उड़ानें भरी गईं। इसमें वायुसेना के विमान भी शामिल हैं। 6 और उड़ानें जल्द ही रवाना होने की उम्मीद है। कुल मिलाकर, 3,000 से अधिक भारतीय नागरिकों को वापस लाया जाएगा।

Also read:  दिल्ली बस और भारी वाहनों के लिए नई गाइडलाइन, 1 अप्रैल से भारी वाहन चलेंगे एक लेन में, नियम तोड़ने पर लगेगा जुर्माना

अब तक करीब 17,000 भारतीय नागरिक यूक्रेन छोड़ चुके

वहीं एडवाइजरी जारी होने के बाद से कुल 17,000 भारतीय नागरिक यूक्रेन छोड़ चुके हैं और यूक्रेन में फंसे शेष छात्रों को निकालने की सुविधा के लिए ऑपरेशन गंगा के तहत उड़ानें बढ़ा दी गई हैं। यूक्रेन छोड़ने वाले छात्रों में कुछ ऐसे भारतीय भी शामिल हैं जिन्होंने पहले कीव में भारतीय दूतावास में पंजीकरण नहीं कराया था। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को इस मुद्दे पर एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में केंद्रीय मंत्री एस जयशंकर, पीयूष गोयल, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और अन्य अधिकारी शामिल हुए।

Also read:  गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष सीआर पाटिल पार्टी स्थापना दिवस पर की टिप्पणी, कहा- प्रतिनिधी करते हैं बार-बार गलतियां

रूस ने 24 फरवरी को यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू किया

पिछले कुछ दिनों से, प्रधान मंत्री इस मुद्दे पर महत्वपूर्ण बैठकों की अध्यक्षता कर रहे हैं। रूस ने 24 फरवरी को यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू किया, मास्को द्वारा यूक्रेन के अलग क्षेत्रों – डोनेट्स्क और लुहान्स्क को स्वतंत्र संस्थाओं के रूप में मान्यता देने के तीन दिन बाद। ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा और यूरोपीय संघ ने यूक्रेन में रूस के सैन्य अभियानों की निंदा की है और मास्को पर प्रतिबंध लगाए हैं। इन देशों ने यूक्रेन से रूस से लड़ने के लिए सैन्य सहायता में मदद करने का भी वादा किया है।