English മലയാളം

Blog

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी आत्मकथा ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में कांगेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का जिक्र किया है। अपनी किताब में उन्होंने कांग्रेस नेता को नर्वस और कम योग्यता वाला बताया है। इसने भाजपा नेताओं को राहुल गांधी पर चुटकी लेने का मौका दे दिया है। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का कहना है कि राहुल की जैसे ही देश में बेइज्जती कम होने लगती है वो विदेश से करवा लेते हैं। वहीं भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी उनपर तंज कसा है।

संबित पात्रा ने वायनाड से सांसद पर तंज कसते हुए कहा, ‘नर्वस और कम गुणवत्ता वाला। बोलो कौन?’ भाजपा सांसद गिरिराज सिंह ने कहा, ‘राहुल गांधी की जैसे ही देश में बेइज्जती कम होने लगती है, विदेश से बेइज्जती करवा लेते हैं।’

बराक ओबामा की राहुल पर की गई टिप्पणी को लेकर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को कहा कि किसी की बेवकूफियों के चर्चे अंतरराष्ट्रीय हो जाएं, तो इतना ही कह सकते हैं कि आजकल उनकी बेवकूफी के चर्चे हर जुबान पर हैं और सबको मालूम है सबको खबर हो गई। इतना ही कह सकते हैं और क्या कहें।

Also read:  'PM मोदी के लिए 8400 करोड़ का जहाज और जवानों को नॉन बुलेट प्रूफ ट्रक', राहुल गांधी का तंज

अपनी किताब में बराक ओबामा ने राहुल को लेकर क्या कहा है
बराक ने लिखा, ‘राहुल गांधी एक ऐसे छात्र हैं जिन्होंने कोर्सवर्क तो किया है और शिक्षक को प्रभावित करने के लिए उत्सुक भी रहे लेकिन इस विषय में महारत हासिल करने के लिए या तो योग्यता नहीं है या जुनून की कमी है।’ अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ने राहुल गांधी को ‘नर्वस और कम गुणवत्ता वाला’ भी बताया है।

Also read:  किसान आंदोलन: केंद्र ने ट्विटर से कहा- ब्लॉक करें खालिस्तान-पाक लिंक वाले 1178 अकाउंट

अपनी आत्मकथा में ओबामा ने राहुल का जिक्र करते हुए लिखा, ‘उनमें एक ऐसे ‘घबराए हुए और अनगढ़’ छात्र के गुण हैं जिसने अपना पूरा पाठ्यक्रम पूरा कर लिया है और वह अपने शिक्षक को प्रभावित करने की चाहत रखता है लेकिन उसमें ‘विषय में महारत हासिल’ करने की योग्यता या फिर जूनून की कमी है।’

Also read:  मकर संक्रांति, पोंगल के बहाने केंद्र पर राहुल गांधी का निशाना, आंदोलनकारी किसानों को दी विशेष शुभकामनाएं

सोनिया गांधी का भी किया जिक्र
अमेरिका के पहले अफ्रीकी-अमेरिकी राष्ट्रपति ने किताब में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भी जिक्र किया है। समीक्षा में कहा गया है, ‘हमें चार्ली क्रिस्ट और रहम एमैनुएल जैसे पुरुषों के हैंडसम होने के बारे में बताया जाता है लेकिन महिलाओं के सौंदर्य के बारे में नहीं। सिर्फ एक या दो उदाहरण ही अपवाद हैं जैसे सोनिया गांधी।’