English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-03-17 103342

कांग्रेस नेता नव प्रभात ने कहा कि विधानसभा चुनाव में हार के लिए किसी एक व्यक्ति को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। उन्होंने कहा कि गुटबाजी हावी नहीं होनी चाहिए। प्रभात ने ये भी कहा कि औपचारिक समीक्षा बैठक नहीं, बल्कि गहन समीक्षा समय की जरूरत है।

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में मिली करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। चुनावी हार के बाद पार्टी में आतंरिक कलह और बढ़ गई है, जिसके चलते अब कांग्रेस के कुछ दिग्गज नेता भी पार्टी को लेकर सवाल खड़े करते हुए भी नजर आए। इस बीच कांग्रेस नेता नव प्रभात का विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली हार को लेकर बयान सामने आया है।

 

Also read:  पुडुचेरी में बीते दिनों कांग्रेस की सरकार गिर जाने के बाद केंद्रीय कैबिनेट ने राष्ट्रपति शासन लगाया गया

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, प्रभात ने कहा, “विधानसभा चुनाव में हार के लिए किसी एक व्यक्ति को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। कहीं-कहीं पार्टी के कुछ उम्मीदवारों ने भाजपा उम्मीदवारों की मदद की। गुटबाजी हावी नहीं होनी चाहिए। केवल औपचारिक समीक्षा बैठक ही नहीं, बल्कि गहन समीक्षा इस समय की मांग है।” बता दें कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के चलते कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पांचों राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों से इस्तीफा मांगा था, ताकि कांग्रेस कमेटी का पुनर्गठन हो सके।

Also read:  किसान आंदोलन : ठंड के बीच प्रदर्शन में शामिल पंजाब के एक किसान की टिकरी बॉर्डर पर मौत

मालूम हो, इस बार 70 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के पाले में महज 19 सीटें ही आईं, जबकि भाजपा ने 47 सीट जीतकर सत्ता बरकरार रखी। श्रीनगर विधानसभा सीट से उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गणेश गोदियाल को भी हार का सामना करना पड़ा। वहीं, आम आदमी पार्टी से कांग्रेस को पंजाब में भी करारी हार मिली और पार्टी 18 सीटों पर सिमट गई। अमृतसर पूर्व से नवजोत सिंह सिद्धू भी चुनाव हार गए। उत्तर प्रदेश में भी कांग्रेस की स्थिति कुछ अच्छी नहीं रही। यहां पार्टी सिर्फ दो सीटों पर सिमट गई, जबकि गोवा और मणिपुर में भी पार्टी का प्रदर्शन खराब रहा।