English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-09-01 141523

 कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि केन्द्र सरकार किसानों के प्रति निष्ठुर है। यह सरकार किसानों से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (पीएम किसान) के तहत दिए गए पैसे वापस मांग रही है।

 

पार्टी के वरिष्ठ नेता अखिलेश प्रताप सिंह ने गुरुवार को कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित एक प्रेसवार्ता के दौरान कहा कि इस सरकार ने दो करोड़ किसानों को पीएम किसान योजना के तहत प्राप्त राशि को वापस करने के लिए नोटिस दिया है।

Also read:  गंणतंत्र दिवस पर बोले राकेश टिकैत- गांव में लहराएंगे त‍िरंगा

सिंह ने कहा कि किसान सम्मान निधि अब किसान अपमान निधि बन गई हैं। क्योंकि जो किसानों को नोटिस प्राप्त हुई हैं उसकी भाषा किसानों को अपमानित करने वाली है। उस नोटिस में लिखा है कि उक्त व्यक्ति गलत तरीके से पैसे हासिल किए हैं। ऐसा करना दंडनीय अपराध है।

Also read:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समाज सुधारक ज्योतिबा फुले की जयंती पर सोमवार को उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की, कहा-सामाजिक न्याय के 'चैम्पियन' असंख्य लोगों की उम्मीदों के स्रोत

उन्होंने कहा कि चुनावी लाभ लेने के लिए केन्द्र सरकार ने वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के पहले यह योजना शुरु कर आनन-फानन में किसानों को पैस बांट दिए थे लेकिन अब किसानों से यह पैसा वापस मांगा जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश का किसान पहले से ही आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। इस नोटिस ने किसानों की समस्याओं को और बढ़ा दिया है।

Also read:  केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने G-20 बैठक में बोले भारत का जलवायु संकट का समाधान करने का इरादा

सिंह ने कहा कि इस योजना के तहत किसानों को लगभग 500 रुपये महीने के आर्थिक लाभ मिल रहे हैं लेकिन अब केन्द्र सरकार ने कुछ नियम बनाकर इस पैसे की वसूली शुरु कर दी है। केन्द्र ने लगभग दो करोड़ किसानों को नोटिस भेजा है और उनसे पैसे वापस करने को कहा है।