English മലയാളം

Blog

Screenshot 2021-12-17 101235

कर्नाटक विधानसभा में कांग्रेस के विधायक और विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष रमेश कुमार ने महिलाओं को लेकर बेहद शर्मनाक बयान दिया है। गुरुवार को विधानसभा में कुमार ने कहा कि एक कहावत है कि जब रेप होना ही है तो लेट जाओ और इसके मजे लो। कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी इस बयान पर कोई एक्शन लेने की बजाय हंस पड़े।

किसानों के मुद्दे पर चर्चा के लिए समय मांग रहे थे MLA
रमेश कुमार का यह बयान तब आया जब विधानसभा में MLA किसान मुद्दों पर बात करने के लिए स्पीकर से समय मांग रहे थे। स्पीकर विश्वेश्वरा हेगडे कागेरी ने सवाल किया कि अगर सबको समय देंगे तो सत्र कैसे पूरा होगा। इसके बाद उन्होंने कहा, ‘जो भी आप लोग तय करेंगे, मैं हां कर दूंगा। मैं सोच रहा हूं कि हम सब को इस परिस्थिति का आनंद लेना चाहिए। मैं इस सिस्टम को कंट्रोल या रेगुलेट नहीं हर सकता हूं। मेरी चिंता बस यह है कि सदन की कार्रवाई पूरी होनी चाहिए।’

Also read:  हैदरपुर बादली में एक कार के ऊपर निर्माणाधीन मेट्रो की शटरिंग का गिरा एक हिस्सा

स्पीकर से कहा- आप मजे लीजिए
स्पीकर के ऐसा कहने के बाद रमेश कुमार ने उनकी तुलना रेप पीड़िता से करते हुए विवादित बयान दिया और स्पीकर से कहा कि आप की स्थिति भी ऐसी ही है, इसलिए मजे ले लीजिए। उनके बयान पर स्पीकर सहित कई सदस्य एक साथ हंस पड़े।

Also read:  केरल में भारी बारिश, कुछ बांधों में जल स्तर खतरे के निशान तक, उत्तराखंड में बारिश के लिए रेड अलर्ट जारी

राज्य गृहमंत्री भी दे चुके हैं विवादित बयान
मैसूर के चामुंडी हिल्स इलाके में अगस्त में हुए रेप केस ने पूरे राज्य को हिलाकर रख दिया था। इसके बाद गृह राज्य मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने बयान दिया था कि महिला और उसके पुरुष मित्र को अकेले सुनसान जगह नहीं जाना चाहिए था। उनके बयान की कड़ी आलोचना हुई थी। इसके बाद उन्होंने कहा था कि विपक्षी पार्टी कांग्रेस इस मुद्दे पर उन्हें घेरकर उनका रेप करने का प्रयास कर रही है। आलोचना के बाद उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया था।

Also read:  Azadi Ka Amrit Mahotsav: लद्दाख में आईटीबीपी के जवानों ने 12000 फीट की ऊंचाई पर फहराया तिरंगा, जवानों ने देशवासियों से की तिरंगा फहराने की अपील

कर्नाटक में रोजाना एक रेप दर्ज होता है
कर्नाटक में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की दर बहुत ज्यादा है। कनार्टक स्टेट पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक, जनवरी 2019 से मई 2021 के बीच 1,168 रेप केस रिपोर्ट किए गए। आंकड़ों के मुताबिक, एक दिन में कम से कम एक रेप होता है और इनमें से 22 गैंग रेप थे।