English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

आने वाले दिनों में त्योहारों को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की है. जनता संवाद के जरिए केंद्रीय मंत्री ने लोगों से मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने समेत तमाम एहतियात बरतने का अनुरोध किया है. अगले हफ्ते से नवरात्र, दशहरा, धनतेरस, दीवाली, काली पूजा, लक्ष्मी पूजा समेत कई त्योहार शुरू हो रहे हैं. ऐसे में उन्होंने लोगों से उचित दूरी बनाए रखने और साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखने को कहा है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी इस बावत मंत्रालय ने त्योहारों को लेकर एक दिशा निर्देश जारी किया है.

जनता संवाद में एनडीटीवी ने मंत्री से पूछा कि क्या आपको लगता है कि मंत्रालय के दिशानिर्देशों का लोग गंभीरता पूर्वक पालन करेंगे? तो मंत्री ने कहा, “त्योहारों के मौसम में कोरोना का खतरा निश्चित रूप से अधिक है और इसे लेकर हम सब चिंतित हैं. स्वयं प्रधानमंत्री जी ने त्यौहारों के मौसम को देखते हुए जन आंदोलन की शुरुआत की है. अगर आप और हम सब इस जन आंदोलन में अपनी जन भागीदारी दें तो निश्चित तौर पर त्योहारों को लेकर हमने जो दिशा निर्देश जारी किए हैं, वह खुद-ब-खुद जनता तक पहुंच जाएंगे.”

Also read:  India Coronavirus Update: भारत में कोरोनावायरस केस अपडेट : भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 11,610 नए COVID-19 केस, 100 की मौत

उन्होंने कहा कि इस जन आंदोलन में प्रधानमंत्री जी ने कोरोना से जुड़े आचार व्यवहार का अनुसरण करने और दूसरों को भी इसके लिए प्रोत्साहित करने को कहा है विशेषकर सार्वजनिक स्थलों पर हमेशा मास्क पहनने और दूसरों से कम से कम 2 गज की दूरी बनाकर रखने को लेकर भी लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है.

Also read:  भारत में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 5,880 नए मामले, उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 35,199 पर पहुंच गई

मंत्री ने कहा, “अगर हम लोगों को यह समझा पाने में कामयाब हुए तो समझ लीजिए यह पर्व त्यौहार भी खुशियों के साथ निकल जाएंगे लेकिन यहां पर मैं एक बात और भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि अगर हमने अपने पर्व और त्योहारों के दौरान कोरोना से जुड़े आचार व्यवहार का अनुसरण करने में कोताही बरती तो तो कोरोनावायरस एक बार फिर विकराल रूप ले सकता है और हम सब के लिए बड़ी परेशानी का कारण बन सकता है. इसे आप मेरी चिंता भी समझें या सलाह लेकिन सच्चाई यही है.”

उन्होंने कहा, “मैं लोगों से गुजारिश करना चाहूंगा कि आने वाले समय में पर्व और त्योहारों की एक लंबी श्रृंखला आने वाली है नवरात्रि, दुर्गा पूजा, दशहरा, करवा चौथ, दीपावली, छठ, भाई दूज, क्रिसमस जैसे कई पर्व हैं. अगर हम सब अपने इन त्योहारों पर मेक इन इंडिया वस्तुओं पर जोर दे सकें तो निश्चित रूप से अपने प्रधानमंत्री जी के आत्म निर्भर भारत के सपने को आगे बढ़ाने का काम करेंगे.” उन्होंने लोगों से कहा कि कोशिश करें पाश्चात्य परंपराओं से हटकर भारतीय परंपरा का अनुसरण करें. किसी भी धर्म में कोई भी धर्म आचार्य यह नहीं कहते कि लोगों के प्राण को खतरे में डालकर त्यौहार मनाया जाना चाहिए. कभी कोई भगवान यह नहीं कहते कि उनकी पूजा के लिए आप बड़े-बड़े पूजा पंडालों में जाने की जरूरत है.

Also read:  पद्मनाभस्वामी मंदिर के 10 पुजारी कोरोना पॉजिटिव, 15 अक्टूबर तक दर्शन पर लगी रोक