English മലയാളം

Blog

लद्दाख: 

भारत-चीन (India China Clash) के बीच LAC पर तनातनी जारी है. बीते सोमवार एक चीनी सैनिक LAC पर भटकता हुआ पहुंच गया था, जिसे भारतीय सेना ने पकड़ लिया था. PLA सैनिक को पूर्वी लद्दाख के चुमार-डेमचोक इलाके में पकड़ा गया था. मंगलवार रात लद्दाख इलाके में पकड़े गए उस चीनी सैनिक को भारत ने चीन को वापस किया. मंगलवार देर रात को चुशूल मोलडो मीटिंग पॉइंट पर चीन को सौंपा गया. चीनी सैनिक का नाम वांग या लोंग था.

Also read:  आज सद्भावना दिवस मनाएंगे किसान, दिनभर रखेंगे उपवास, पंजाब-हरियाणा से दिल्ली करेंगे कूच

चीनी सेना से अपने लापता सैनिक को वापस देने का अनुरोध किया था. जिसके बाद भारतीय अधिकारियों ने प्रोटोकॉल के तहत सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद वांग को चीन को वापस सौंप दिया. बता दें कि मई महीने के पहले हफ्ते से ही भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने हैं. दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है.

Also read:  मध्यप्रदेश में 'धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक-2020' कल से लागू, 10 साल तक की सजा का है प्रावधान

जून महीने में लद्दाख स्थित गलवान घाटी में दोनों सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें 20 भारतीय जवानों की जान चली गई थी. हिंसक झड़प में दर्जनों चीनी सैनिक भी हताहत हुए थे. वहीं, पैंगॉन्ग त्सो में दोनों पक्षों के बीच एक से ज्यादा बार एयर शॉट चलाने की घटनाएं भी हुई हैं. इस दौरान भारत और चीन के बीच कई बार कोर कमांडर स्तर की वार्ता भी हो चुकी है, जो लगभग हर बार नाकाम रही है.

Also read:  भारतीय विस्तार नए पासपोर्ट में विदेशी पता प्रस्तुत कर सकते हैं