English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

चुनाव आयोग ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव को ”शालीनता की सभी हदों को पार कर असंयमित भाषा” के इस्तेमाल के लिये फटकार लगाते हुए 31 अक्टूबर को एक दिन के लिए उपचुनाव में प्रचार करने पर रोक लगा दी. इसके साथ ही आयोग ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ आपत्तिजनक और धमकी भरी टिप्पणी के लिये भाजपा उम्मीवादर गिरराज दनोतिया को भी नोटिस जारी किया है. उन्होंने एक साक्षात्कार में टिप्पणी की थी. आयोग ने उन्हें 48 घंटे में नोटिस का जवाब देने के लिये कहा है.

Also read:  प्रधानमंत्री मोदी 16 जनवरी को लॉन्च करेंगे कोरोना टीकाकरण अभियान, CO-WIN ऐप की भी होगी शुरुआत

मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर तीन नवंबर को उपचुनाव होने हैं, जिसके लिये प्रचार अभियान जारी है. एक नवंबर की शाम प्रचार थम जाएगा. चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा कि वह यादव को भेजे गए नोटिस पर उनके जवाब से संतुष्ट नहीं है.

Also read:  पश्चिम बंगाल में 6 फरवरी से यात्राएं करेंगे अमित शाह समेत बीजेपी के बड़े नेता, अनुमति न मिली तो कोर्ट जाने की बात कही

आदेश में कहा गया है, ”आयोग का मानना है कि बयानों में शालीनता की सभी सीमाएं लांघते हुए असंयमित भाषा का इस्तेमाल किया गया.” नोटिस में कहा गया है, ”लिहाजा चुनाव आयोग आपको आदर्श आचार संहिता के सामान्य आचार के प्रावधानों का उल्लंघन कर सभी सीमाएं लांघते हुए असंयमित भाषा का इस्तेमाल करने के लिये फटकार लगाता है. आपसे आशा की जाती है कि आप एक जिम्मेदार नेता की तरह चुनाव के समय इस प्रकार की अभद्रता दोबारा नहीं दिखाएंगे.’

Also read:  दिल्ली: फेस्टिवल सीजन में अंतरराज्यीय बस सेवाएं आज से शुरू, यात्री सेवा के लिए 3467 बसें तैयार

चुनाव आयोग ने संविधान के अनुच्छेद 324 में प्रदत्त अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए 31 अक्टूबर को दिनभर ”मध्य प्रदेश में कहीं भी” यादव के चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी.