English മലയാളം

Blog

चेन्नई : 

अभिनेत्री से राजनेता बनी खुशबू सुंदर के भाजपा में शामिल होने की संभावना है. वह 2014 से कांग्रेस में रही हैं. उन्होंने हाल ही में इस तरह की खबरों का खंडन किया था. इस बीच वे रविवार को दिल्ली के लिए रवाना हुईं. उन्होंने कहा था कि वे इस पर “कोई टिप्पणी नहीं” करना चाहती हैं. जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अभी भी कांग्रेस में है, तो उन्होंने कहा, “मैं कुछ भी कहना नहीं चाहती.” 2014 में कांग्रेस के सत्ता से बाहर होने के बाद से उनका राजनीतिक करियर का ग्राफ कुछ खास नहीं रहा है. यह तो साफ है कि भाजपा 2021 के विधानसभा चुनावों में तमिलनाडु के मैदान में उतरने के लिए उन्हें मैदान में उतार रही है.

Also read:  खाद्य पदार्थों पर लगे GST को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिए जवाब

लोकप्रिय स्टार खुशबू इससे पहले भी कई पार्टियों से जुड़ी हैं. वह 2010 में DMK में शामिल हुई थीं, जब DMK सत्ता में थी. उस समय, अभिनेत्री ने कहा था, “मुझे लगता है कि मैंने सही निर्णय लिया है. मुझे लोगों की सेवा करना बहुत पसंद है. मैं महिलाओं की भलाई के लिए काम करना चाहती हूं.”

हालांकि, चार साल बाद, जब उन्होंने DMK छोड़ी, तो कहा था, “द्रमुक के लिए कड़ी मेहनत एक तरफ़ा रास्ता था.” उसी वर्ष 2014 में वह सोनिया गांधी से मिलने के बाद कांग्रेस में शामिल हो गईं. अभिनेत्री ने तब कहा था, “मुझे लगता है कि मैं अपने घर में हूं. कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है जो भारत के लोगों के लिए अच्छा कर सकती है और देश को एकजुट कर सकती है.” लेकिन खुशबू सुंदर को 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए टिकट नहीं दिया गया था. जबकि राज्य में डीएमके-कांग्रेस गठबंधन ने बड़ी जीत दर्ज की थी. न ही उन्हें राज्यसभा के लिए चुना गया.

Also read:  ब्रह्मपुत्र पर नया डैम बनाने का चीनी बना रहे प्लान,भारत-चीन के बीच फिर बढ़ सकती है तकरार

 

खुशबू सुंदर राज्य में काफी लोकप्रिय रही हैं. तमिलनाडु में आठ महीने दूर राज्य के चुनावों के साथ, राज्य में अपनी सीमित पहुंच के साथ भाजपा खुशबू सुंदर की स्टार पावर को आजमाना चाहेगी. पार्टी के पास अभी तक राज्य में कोई करिश्माई नेता नहीं है.

Also read:  "मुस्लिमों को चार शादियों की छूट, हिंदू, सिख और ईसाईयों पर प्रतिबंध भेदभाव है"- इलाहाबाद हाईकोर्ट

खासकर तब जब सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा के साथ अपने गठबंधन को जारी रखने के बारे में असहज है और यह अटकलें हैं कि राष्ट्रीय पार्टी सुपरस्टार रजनीकांत को सपोर्ट कर सकती है, जो चुनाव से पहले अपनी पार्टी शुरू कर सकते हैं.