English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-05-14 212332

ताजमहल, कुतुब मीनार और ऐसे ही धरोहरों को लेकर छिड़ी बहस को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, निश्चित रूप से ताजमहल देश की शान है।

 

पिछले कुछ समय से राजस्थान लगातार चर्चा का विषय बना हुआ है, यहां अलग-अलग जिलों में हुई सांप्रदायिक हिंसाओं को लेकर गहलोत सरकार और विपक्षी बीजेपी एक दूसरे पर हमलावर हैं। इसी बीच केंद्रीय जल शक्ति मंत्री और राजस्थान के जोधपुर से सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत ने एबीपी न्यूज़ के खास शो ‘प्रेस कॉन्फ्रेंस’ में हिस्सा लिया। जिसमें उन्होंने तमाम तीखे सवालों का जवाब दिया।

Also read:  ओमीक्रॉन लहर बढ़ी दिल्ली में ओमीक्रॉन के 4 नए केस मिले , अबतक 11 राज्यों में सामने आए ओमीक्रॉन वैरिंयट

क्यों हो रही है हिंदू-मुस्लिम की बहस?

देश में हिंदू-मुस्लिम की बहस को लेकर केंद्रीय मंत्री शेखावत ने कांग्रेस पर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि, देश में जिन प्रदेशों से मुस्लिम मतदाता कांग्रेस से छिटका, वहां कांग्रेस का अस्तित्व खत्म हो गया। ऐसे कई उदाहरण हमारे सामने हैं. राजस्थान के अलावा जिन भी राज्यों में ऐसी स्थिति बनी है, वो वही राज्य हैं जहां कांग्रेस अपने लिए कोई संभावना देखती है। धार्मिक उन्माद की कांग्रेस सबसे ज्यादा चर्चा करती है। इसके पीछे कोई न कोई कारण होगा।

Also read:  दिल्लीवालों से केजरीवाल की अपील- इस बार भी दिवाली में नहीं जलाएं पटाखे

बीजेपी सरकार पर एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोप विपक्ष लगाता रहा है, इस पर गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि, मैं एक बार इसे मान भी लूं, लेकिन हिंदुस्तान की न्यायपालिका को तो किसी ने नहीं रोका है। कई ऐसे मामले हैं जहां सीबीआई और ईडी की कार्रवाई के बाद न्यायालय ने उसे खारिज कर दिया। इसलिए ऐसा बोलना ठीक नहीं है।

‘इतिहास को दिखाने में हुई चूक’

ताजमहल, कुतुब मीनार और ऐसे ही धरोहरों को लेकर छिड़ी बहस को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, निश्चित रूप से ताजमहल देश की शान है। कुतुब मीनार वर्ल्ड हैरिटेज साइट है, इसलिए हमें इन पर गर्व होना चाहिए। देश को आजादी के समय में जिन विषयों के बारे में चिंता करनी चाहिए थी और देश के इतिहास को जिस तरह से देखना चाहिए… उसमें कहीं न कहीं चूक हुई है। जिम्मेदार लोगों ने इतिहास को तोड़ा-मरोड़ा। मैं ऐसा नहीं कहता हूं कि इतिहास दोबारा लिखा जाए, लेकिन इस पर अनुसंधान होना चाहिए।

Also read:  कानपुर के सेंट्रल बैंक से गायब हुए 50 लाख के गहने, पहले भी कई लॉकरों में हो चुकी है चोरी