English മലയാളം

Blog

पटना: 

बिहार में विपक्षी महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के चेहरा और नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चुनौती दी है कि वो उनके खिलाफ बिहार विधान सभा चुनाव लड़कर दिखाएं. राघोपुर से नामांकन करने से पहले तेजस्वी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अब बिहार में नयी सोच की सरकार चाहिए. उन्होंने कहा, “हम नीतीश जी को चुनौती देते हैं कि वो अपने गृह ज़िले में कोई एक विधान सभा सीट चुन लें. वहां से वो भी लड़ें और हम भी चुनाव लड़ेंगे. लेकिन वहाँ से हम लड़ेंगे और उन्हें हरायेंगे.”

Also read:  Bihar Elections 2020: बिहार में पहले की तरह होंगी चुनावी रैली और सभाएं लेकिन...

तेजस्वी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर भी तंज कसा और कहा कि नीतीश कुमार ने उन्हें बिहार में घुसने नहीं दिया और प्रचार करने नहीं दिया. तेजस्वी ने कहा कि उनका गठबंधन मुद्दों पर चुनाव लड़ेगा. उन्होंने पूछा कि डबल इंजन की सरकार में बिहार में बेरोजगारी दर 46.6 फीसदी क्यों है? उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार के 15 साल में राज्य में बेरोजगारी, गरीबी, भुखमरी, पलायन क्यों है?

Also read:  भूपेंद्र सिंह मान ने कृषि कानूनों पर SC की समिति से खुद को अलग किया

तेजस्वी ने आरोप लगाया कि बीजेपी और जेडीयू के नेता मुद्दों से ध्यान हटाना चाहते हैं लेकिन बिहार की जनता उन्हें करारा जवाब देगी. इससे पहले तेजस्वी ने राघोपुर रवाना होने से पहले मां राबड़ी देवी और बड़े भाई तेज प्रताप यादव का पैर छूकर आशीर्वाद लिया.

 

इस मौके पर राबड़ी देवी ने कहा कि बिहार के लोग चुनाव में लालू जी को मिस कर रहे हैं. राघोपुर में दूसरे चरण में तीन नवंबर को चुनाव होना है.