English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-08-18 150826

उत्तर प्रदेश के साथ-साथ उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा के भी किसान पहुंच रहे हैं लखीमपुर खीरी बुधवार को ही पहुंच गए थे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत संयुक्त किसान मोर्चा के कई नेता 75 घंटे के इस धरने में शामिल होंगे

 

एकबार फिर से केंद्र के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा धरने पर बैठ गया है। गुरुवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने 75 घंटे का धरना-प्रदर्शन शुरू किया है। राजापुर मंडी समिति परिसर में जारी प्रदर्शन तिकोनिया कांड मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी सहित अन्य मांगों को लेकर है।

Also read:  मेट्रो मैन ई श्रीधरन ने दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन DMRC के प्रधान सलाहकार के पद से इस्तीफा दे दिया

एसकेएम द्वारा बुलाए गए इस प्रदर्शन में पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों से हजारों किसान कारों और बसों में लखीमपुर खीरी पहुंच रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन टिकैत के जिलाध्यक्ष और इस धरने के स्थानीय संयोजक दिलबाग सिंह संधू ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत, राष्ट्रीय संगठन सचिव भूदेव शर्मा तथा संगठन के अन्य प्रमुख नेता बुधवार को ही धरने के लिए यहां पहुंच गए थे।

संयुक्त किसान मोर्चा के कई अन्य नेता भी 75 घंटे के इस धरने में शामिल होंगे। भारतीय किसान यूनियन (लाखेवाल) के प्रदेश उपाध्यक्ष अवतार सिंह ने कहा, “तिकोनिया में पिछले साल तीन अक्टूबर को मारे गए किसानों को न्याय दिलाने की हमारी लड़ाई जारी रहेगी।” राजापुर मंडी समिति परिसर में हो रहे किसानों के इस धरने में शामिल होने के लिये उत्तर प्रदेश के साथ-साथ उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा के भी किसान पहुंच रहे हैं।

Also read:  बलिया मर्डर: मुख्य आरोपी के बचाव में नजर आए BJP MLA, कहा- 'अगर आत्मरक्षा में गोली नहीं चलाता तो...'

इस धरना प्रदर्शन के लिए जिला प्रशासन से इजाजत के सवाल पर संधू ने कहा कि उन्होंने इस बारे में प्रशासन को सूचित कर दिया था। हालांकि न तो कोई लिखित अनुमति मांगी गई और ना ही उन्हें मिली। जिला प्रशासन ने सुरक्षा, साफ-सफाई और पेयजल की व्यवस्था की है।

Also read:  ज्ज्वला योजना के तहत सब्सिडी वाले सिलेंडर की '' ऊंची''कीमत योजना को ''पंगु' बनाने वाली- पी.चिदंबरम

गौरतलब है कि पिछले साल तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी जिले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के गांव जा रहे उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के दौरे का किसानों द्वारा विरोध किया गया था। इस दौरान तिकोनिया गांव में हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोग मारे गए थे। इस मामले में टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को बतौर मुख्य अभियुक्त गिरफ्तार किया गया है। किसानों की मांग है कि इस मामले को लेकर टेनी को मंत्री पद से बर्खास्त किया जाए।