English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप में पाकिस्तान के खिलाफ जब वैश्विक वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (FATF) इस महीने के अंत में बैठक कर रहा है, तब  पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के रास्ते पाक समर्थित आतंकी भारत में हथियरों की बड़ी खेप तस्करी करने की फिराक में लगे हैं. हालांकि, भारतीय सेना के जवानों ने पाक आतंकियों के इस मंसूबे पर पानी फेर दिया है. उत्तरी कश्मीर के केरन सेक्टर में तैनात सेना के जवानों ने किशनगंगा नदी के रास्ते से की जी रही हथियारों की तस्करी की कोशिश को नाकाम कर दिया है. सेना ने राज्य पुलिस बल के साथ मिलकर एक ज्वाइन्ट ऑपरेशन में इसे अंजाम दिया.

Also read:  जम्मू-कश्मीरः कुलगाम में सेना की रोड ओपनिंग पार्टी पर हमला, चार जवान घायल

सेना के जवानों की निगरानी टुकड़ी ने सर्विलांस इक्वीपमेंट के सहारे शुक्रवार (9 अक्टूबर) रात करीब 8.30 बजे नियंत्रण रेखा पर  किशन गंगा नदी (केजीआर) के तट पर तस्कारी के प्लान का पता लगाया. इसके तुरंत बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ मिलकर एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया.

Also read:  Pfizer COVID-19 Vaccine: फाइजर (Pfizer) ने भारत में अपनी कोरोना वैक्सीन (COVID-19 vaccine) के आपातकाल इस्तेमाल की मंजूरी के लिए दिए आवेदन को वापस ले लिया

रात के करीब 10 बजे ऑपरेशन में लगे जवानों ने 2-3 आतंकवादियों का पता लगाया, जो ट्यूब में कुछ वस्तुओं को ले जाने की कोशिश कर रहे थे, जो किशन गंगा नदी के तट से दूर एक रस्सी से बंधी थी. जवान तुरंत उस स्थान पर पहुंचे और वहां से हथियारों का बड़ा जखीरा बरामद किया. बरामद हथियारों में चार एके-74 राइफल, आठ मैगजीन, 240 एके राइफल शामिल है. पाकिस्तान लगातार PoK के रास्ते आतंक का सामान सप्लाई कर कश्मीर में आंतक फैलने की फिराक में लगा रहता है.

Also read:  फिल्‍म निर्देशक अनुराग कश्‍यप और एक्‍टर तापसी पन्‍नू से पुणे के एक होटल में आयकर विभाग की टीम पूछताछ कर रही है:सूत्र