English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-08-31 140718

र्तगाल की स्वास्थ्य मंत्री मार्ता टेमिडो ने उन रिपोर्ट्स के सामने आने के कुछ घंटे बाद इस्तीफा दे दिया, जिनमें यह दावा किया गया कि मेटरनिटी वार्ड में जगह नहीं होने के कारण एक गर्भवती महिला पर्यटक को भर्ती नहीं किया जा सका और उसकी मौत हो गई। भर्ती होने के लिए लिस्बन में अस्पतालों के चक्कर काटने के दौरान 34 वर्षीय भारतीय महिला को कथित तौर पर कार्डियक अरेस्ट का सामना करना पड़ा।

 

पुर्तगाल में इस तरह की गई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो यहां के अस्पतालों के मेटरनिटी वार्ड में स्टाफ की भारी कमी है।

मार्ता टेमिडो 2018 से पुर्तगाल की स्वास्थ्य मंत्री थीं। उन्हें कोरोना महामारी की भयावहता से अपने देश को सफलतापूर्वक बाहर निकालने का श्रेय दिया जाता है। लेकिन मंगलवार को, सरकार ने एक बयान में कहा कि टेमिडो को यह एहसास हो गया था कि उनके पास अब पद पर बने रहने के लिए कोई वजह नहीं हैं। पुर्तगाल की लूसा समाचार एजेंसी के अनुसार, प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा ने कहा कि गर्भवती भारतीय महिला पर्यटक की मौत, वह घटना रही, जिसके कारण डॉ टेमिडो को इस्तीफा देना पड़ा।

Also read:  गाजियाबाद में बढ़ते अपराधों पर काबू पाना एक बड़ी चुनौती रहा, गाजियाबाद की सुरक्षा व्यवस्था अब होगी और पुख्ता, बनेंगे ये दो नए थाने

सांता मारिया अस्पताल के नियोनेटोलॉजी यूनिट में जगह नहीं थी

इस घटना के बाद पुर्तगाली सरकार को मेटरनिटी यूनिट्स में कर्मचारियों की कमी से निपटने, उनमें से कुछ को अस्थायी रूप से बंद करने और गर्भवती महिलाओं को अस्पतालों के बीच जोखिम भरे स्थानान्तरण से गुजरने के लिए मजबूर करने के लिए तीखी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय मीडिया ने बताया कि पुर्तगाल के सबसे बड़े अस्पताल, सांता मारिया, जो राजधानी लिस्बन में स्थित है, के नियोनेटोलॉजी यूनिट में जगह नहीं थी इसलिए गर्भवती पर्यटक को भर्ती नहीं किया गया। दूसरे अस्पताल तक पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई।

Also read:  बीरेन सिंह दोपहर दो बजे लेंगे मुख्यमंत्री की शपत, दूसरी बार बनेंगे मणिपुर के मुख्यमंत्री

इमरजेंसी सीजेरियन सेक्शन के बाद बच्चे को बचा लिया गया

अधिकारियों ने बताया कि एक इमरजेंसी सीजेरियन सेक्शन के बाद उसके बच्चे को बचा लिया गया, जो अच्छे स्वास्थ्य में है। महिला की मौत की जांच शुरू कर दी गई है। हाल के महीनों में पुर्तगाल में इसी तरह की घटनाएं हुई हैं, जिसमें दो अलग अलग शिशुओं की मौतें शामिल हैं। क्योंकि गर्भवती महिलाओं को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल के बीच ट्रांसफर करने के दौरान, उन्हें डिलीवरी में लंबी देरी का सामना करना पड़ा। पुर्तगाल में स्वास्थ्य कर्मचारियों की भारी कमी है, विशेष रूप से स्त्री रोग और प्रसूति में विशेषज्ञता रखने वाले स्टाफ की। इस कारण वहां की सरकार को विदेशों से हेल्थ स्टाफ आउटसोर्स करना पड़ रहा है।

पुर्तगाल के अस्पतालों में मेडिकल स्टाफ का भारी संकट

कुछ प्रसव इकाइयों के बंद होने से बचे हुए प्रसूति वार्डों में भीड़ हो रही है और विपक्षी दलों, डॉक्टरों और नर्सों ने पूर्व स्वास्थ्य मंत्री पर इसका दोषारोपण किया है। स्थानीय मीडिया आउटलेट आरटीपी से बात करते हुए, पुर्तगाली डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष मिगुएल गुइमारेस ने कहा कि मार्ता टेमिडो ने पद छोड़ दिया क्योंकि उनके पास मौजूदा संकट को हल करने का कोई तरीका नहीं था। हालांकि, उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री के रूप में मार्ता के कार्यकाल की प्रशंसा की।

Also read:  SC के आदेश पर जेल से होगी रिहाई, छोटे अपराधों में आधी सजा काट चुके कैदी को मिलेगी आजादी

हालांकि, पुर्तगाल के सार्वजनिक स्वास्थ्य संघ के अध्यक्ष गुस्तावो टाटो बोर्गेस ने आरटीपी को बताया कि उन्हें मार्ता टेमिडो से इस्तीफे की उम्मीद नहीं थी। उन्होंने कहा, मुझे हैरानी है कि स्वास्थ्य क्षेत्र में गंभीर समस्याएं होने के बीच, मार्ता ने अपना पद छोड़ दिया। डॉ टेमिडो को कोविM-19महामारी के दौरान देश के वैक्सीन रोलआउट को सफलतापूर्वक संभालने का व्यापक रूप से श्रेय दिया गया।