English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

भारतीय खुफिया एजेंसियों और स्पेशल सेल की बड़ी कामयाबी मिली है. पंजाब का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर और खालिस्तानी आतंकी सुख बिकरीवाल को दुबई से डिपोर्ट किया गया है. वह ISI के इशारे पर  पंजाब में एक के बाद एक टारगेट किलिंग करवा रहा था. पंजाब में शौर्य चक्र विजेता बलविंदर संधु की की हत्या भी ISI ने सुख बिकरीवाल के साथ मिलकर करवाई थी. पंजाब की नाभा जेल ब्रेक कांड में भी सुख बिकरीवाल शामिल था .

भारत प्रत्यर्पित किए जाने के बाद अब सुरक्षा एजेंसियां और खुफिया एजेंसियां सुख बिकरीवाल से पूछताछ करेगी. माना जा रहा है कि इस पूछताछ में पंजाब में खालिस्तानी लिंक पर बड़े खुलासे हो सकते हैं. इसके साथ ही पंजाब में टारगेट किलिंग पर भी एजेंसियों को अहम सुराग मिलने की संभावना है.

Also read:  Bihar Election Results 2020 Updates: शुरुआती रुझानों में बड़ा उलटफेर, नीतीश को मिला बहुमत

गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने दिसंबर की शुरुआती हफ्तों में पांच आतंकियों को दबोचा था। उनसे पूछताछ में बिकरीवाल को लेकर खुलासा हुआ था।

दिल्ली में दिसंबर की शुरुआत में गिरफ्तार किए गए आतंकियों में से तीन ने पंजाब में पुलिस अधिकारी बलविंदर संधु की हत्या की थी। तीनों आरोपियों ने इस बात को पूछताछ में कबूल किया था कि उन्हें संधु की हत्या के लिए सुख बिकरीवाल ने दुबई से हुक्म दिया था। बिकरीवाल ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर उन्हें यह आदेश दिया था।

Also read:  हाथरस कांड के मुख्य आरोपी ने पुलिस को लिखी चिट्ठी : 'हमारी दोस्ती के खिलाफ था उसका परिवार, उन्होंने की हत्या'

दुबई में रहने के दौरान बिकरीवाल ने अपना हुलिया बदल लिया था। उसने अपनी दाढ़ी भी बढ़ा ली। सूत्रों ने बताया कि दिल्ली में पकड़े गए आतंकियों के खुलासे के बाद दुबई स्थित सुख बिकरीवाल के फ्लैट पर छापेमारी की गई, इसके बाद उसे हिरासत में लिया गया।

गौरतलब है कि सोमवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शकरपुर इलाके से मुठभेड़ के बाद पांच आतंकियों को गिरफ्तार किया था। इनमें से दो आतंकी कश्मीर और तीन पंजाब के रहने वाले हैं। पुलिस का कहना है कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि इस्लामिक और खालिस्तानी आतंकियों ने एक-दूसरे के साथ हाथ मिला लिया है।

Also read:  सुशांत सिंह राजपूत की बहन प्रियंका के खिलाफ रिया चक्रवर्ती का केस बॉम्बे हाईकोर्ट ने रखा बरकरार

दिल्ली पुलिस ने बताया कि इन आतंकियों का मकसद भारत के खिलाफ खालिस्तानी आंदोलन खड़ा करना है। गैंगस्टर सुख बिकरीवाल आईएसआई का मोहरा था, जो पंजाब में टारगेट किलिंग के लिए आदेश देता था। बताया गया है कि बिकरीवाल ने ही आतंक का सफाया कर रहे बलविंदर सिंह संधु की हत्या के लिए पकड़े गए पांच आतंकियों में से तीन को सुपारी दी थी।