English മലയാളം

Blog

BALLIA MURDER CASE

बलिया: 

उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में गुरुवार की दोपहर एक अधेड़ की हत्या का मामला राजनीतिक रंग लेता जा रहा है. इस मामले में मुख्य आरोपी बीजेपी कार्यकर्ता धीरेंद्र सिंह को लेकर बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने एक बयान जारी किया है. सुरेंद्र सिंह इस वीडियो में आरोपी का बचाव करते नजर करते आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि धीरेंद्र सिंह अगर आत्मरक्षा में गोली नहीं चलाता तो उसके परिवार के दर्जनों लोग मारे जाते. उन्होंने यह भी कहा कि दूसरे पक्ष के कई लोग बुरी तरह घायल हैं, तो उनकी बात भी सुनी जानी चाहिए.

बीजेपी विधायक ने इस वीडियो में कहा, ‘जो घटना हुई है वह निंदनीय है, लेकिन पुलिस एकतरफा कार्रवाई कर रही है. दूसरी तरफ के लोगों की 6-6 महिलाएं घायल हुई हैं और एक शख्स गंभीर रूप से घायल होकर बनारस रेफर कर दिया गया है, जिसके पक्ष को नहीं सुना जा रहा है. उनकी पीड़ा को कोई नहीं देख रहा.’

Also read:  कोरोना वाइरस: मध्य प्रदेश में 723 कोरोना वायरस के नए मामले , सात लोगों की मौत

विधायक ने आगे कहा, ‘अगर धीरेंद्र सिंह ने आत्मरक्षा में गोली नहीं चलाई होती तो उसके परिवार के दर्जनों लोग मारे जाते तब पुलिस प्रशासन इसे कैसे देखता, मैं नहीं कह सकता. मेरा बैरिया की जनता से और प्रशासन से यही कहना है कि इस  घटना की निंदा की जानी चाहिए लेकिन न्याय पक्ष को भी सामने रखना चाहिए. जिसने जिस अंश में गलती की है, उसे सजा मिलनी चाहिए. अगर गोली किसी ने मारी है तो उसे भी दंड मिले लेकिन जिन लोगों ने लाठी से डंडों से मारकर 6-6 लोगों को घायल किया है उन पर भी कार्रवाई होनी चाहिए. मेरा प्रशासन से यही आग्रह है, अपील है.’

Also read:  बिहार में पहले चरण का मतदान शुरू, पीएम मोदी ने सामाजिक दूरियां बनाए रखने की याद दिलाई

सुरेंद्र सिंह ने यह भी कहा कि ‘यह बहुत ही अप्रिय घटना है, लेकिन प्रशासन से मेरा आग्रह है कि दूसरे पक्ष की भी पीड़ा को समझें और कार्रवाई करें. अपराध हो सकता है. आत्मरक्षा के लिए ही लाइसेंस मिलता है. अगर धीरेंद्र सिंह ने आत्मरक्षा में गोली चलाई है, तो गलत काम जरूर है. लेकिन उनके सामने मरने और मारने के अलावा कोई विकल्प नहीं था. शायद इसी परिस्थिति में यह निर्णय लिया है. लेकिन हम इस निर्णय को अच्छा नहीं मानते. जो घटना हुई है, उसके लिए हम दुख प्रकट करते हैं, लेकिन प्रशासन से आग्रह है कि वो दोनों पक्षों को देखे.’

बता दें कि गुरुवार की दोपहर को बलिया के दुर्जनपुर इलाके में सरकारी कोटे की दुकानों के आवंटन की कार्यवाही चल रही थी. तभी आवंटन के दावेदार दो पक्षों में विवाद हो गया. विवाद बढ़ते-बढ़ते दोनों पक्षों में गाली गलौज, मारपीट और ईंट पत्थर चलने लगे. इसी बीच एक पक्ष ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं. तभी बैरिया से बीजेपी विधायक के करीबी माने जाने वाले बीजेपी कार्यकर्ता धीरेंद्र प्रताप सिंह ने दूसरे पक्ष के जयप्रकाश पाल को गोली मार दी. जयप्रकाश पाल को मौके पर मौजूद लोगों ने इलाके के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. इस गोलीकांड में क़रीब एक दर्जन लोग घायल हैं.

Also read:  एक मार्च से रेलवे लोकल ट्रेनों की संख्या में धीरे-धीरे इजाफा,मोबाइल एप से ले सकते हैं टिकट

इस मामले में आठ लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है और अभी बस एक- धीरेंद्र सिंह के भाई देवेंद्र सिंह को गिफ्तार किया जा सका है. मुख्य आरोपी फरार चल रहा