English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

ब्रिटेन में कोरोना वायरस (Coronavirus) नया स्ट्रेन मिलने और अचानक से उसके मामलों में बढ़ोतरी होने से भारत में स्वास्थ्य मन्त्रालय (Health Ministry) की चिंता बढ़ गई है. इस चुनौती से निपटने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में ज्वाइंट मॉनिटरिंग ग्रुप (Joint Monitoring Group) की सोमवार को बैठक बुलाई गयी है. माना जा रहा है कि कोरोना वायरस का नया प्रकार ब्रिटेन में संक्रमण को तेजी से फैलाने के लिए जिम्मेदार है. ब्रिटेन की सरकार द्वारा वायरस के नए प्रकार के ”नियत्रंण से बाहर” होने की चेतावनी जारी करने के बाद यूरोपीय यूनियन के कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली उडानों पर रोक लगा दी है. वहीं, ब्रिटेन ने भी रविवार से सख्त लॉकडाउन लागू कर दिया है.

Also read:  'न मांगूंगा माफी, न भरूंगा जुर्माना', अवमानना का आरोप झेल रहे कुणाल कामरा ने लिखा

एक सूत्र ने बताया, ”ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए प्रकार के चलते इस पर चर्चा के लिए स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक (डीजीएचएस) की अध्यक्षता में सोमवार को संयुक्त निगरानी समूह की बैठक होगी. भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ रॉडरिको एच ऑफ्रिन भी बैठक में शामिल हो सकते हैं जोकि जेएमजी के सदस्य हैं.”

Also read:  दिल्लीवालों से केजरीवाल की अपील- इस बार भी दिवाली में नहीं जलाएं पटाखे

बता दें कि कोरोना वायरस ने नए खतरनाक रूप (Coronavirus Strain) ने कहर ढाना शुरू कर दिया है. खतरा भांपते हुए जर्मन सरकार ब्रिटेन (Britain) और दक्षिण अफ्रीका (South Africa) की उड़ानों पर रोक लगाने पर विचार कर रही है. जर्मनी के स्वास्थ्य मंत्री के सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी. कोरोना वायरस के नए खतरे को देखते हुए बेल्जियम (Belgium) और नीदरलैंड (Netherland) पहले ही ब्रिटेन से विमान और ट्रेन सेवा रोक चुके हैं.

Also read:  पत्नी सुजाता के टीएमसी में शामिल होने से नाराज सांसद सौमित्र खान, भेजेंगे तलाक नोटिस