English മലയാളം

Blog

मुख्तार अंसारी – फोटो : फाइल फोटो

माफिया डॉन और पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ी कार्रवाई की है। जांच एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के नेता मुख्तार अंसारी के परिसरों पर छापेमारी की। ये छापेमारी दिल्ली और उत्तर प्रदेश में गयी है।

 

ईडी ने अभी तक इस संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है। अधिकारियों ने गुरुवार सुबह छापेमारी शुरू की। ईडी ने छापेमारी मुख्तार अंसारी और उसके करीबियों के दिल्ली और यूपी के लखनऊ, मऊ और गाजीपुर जिलों में कई ठिकानों पर की है।

Also read:  बड़ी कामयाबी : खालिस्तानी आतंकी सुख बिकरीवाल को दुबई से भारत लाया गया

पंजाब की आप सरकार ने हाल ही में मुख्तार अंसारी के रूपनगर जेल में बंद होने पर VVIP ट्रीटमेंट देने के आरोप में जांच के आदेश दिए थे। माफिया डॉन और पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी इस समय उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद हैं। अंसारी पर ईडी ने एक जुलाई 2021 को मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था।

Also read:  मंदिर में नमाज का मामला: यूपी पुलिस ने फैजल खान को दिल्ली से किया गिरफ्तार

ED ने भाई समेत कई को बनाया आरोपी

आरोप है कि मुख्तार ने एक सरकारी जमीन पर अवैध रूप से कब्जा किया और फिर उसे सात साल के लिए 1.7 करोड़ रुपये प्रति वर्ष के हिसाब से एक प्राइवेट कंपनी को किराए पर दे दिया। इस कंपनी से मुख्तार के भाइयों और बेटे का भी संबंध होने को आरोप था। मामला सामने आने के बाद ईडी ने इस मामले में माफिया मुख्तार अंसारी, उनके भाई सांसद अफजाल अंसारी समेत कई अन्य को आरोपी बनाया गया है।

Also read:  WHO ने कहा, AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन पर रोक लगाने की कोई वजह नहीं

जिसमें भ्रष्टाचार और विधायक निधि गबन और आय से अधिक संपत्ति को लेकर दर्ज मुकदमों को आधार बनाते हुए ईडी ने केस दर्ज किया है। इस मामले में नौ मई को सांसद अफजाल अंसारी को तलब कर ईडी की प्रयागराज टीम ने पूछताछ की थी। टीम ने 10 घंटे से अधिक समय तक अफजाल से पूछताछ कर बयान दर्ज किया था।