English മലയാളം

Blog

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने 65वें जन्मदिन पर बड़ा एलान किया है। उन्होंने अगले विधानसभा चुनाव अकेले ही लड़ने की घोषणा की है। इस दौरान उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में बहुजन समाज पार्टी की जीत तय है।

इस दौरान मायवती ने कहा कि हमें गठबंधन से नुकसान होता है। बिहार में मायावती ने छोटी पार्टियों संग चुनावी तालमेल किया था। इस दौरान मायावती ने विपक्षी दलों पर भी हमला बोला। साथ ही केंद्र सरकार से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत किसानों की सभी मांगों को मानने की अपील की।

Also read:  तीसरी कोशिश में सफलतापूर्वक लैंड हुआ SpaceX का सबसे बड़ा रॉकेट,कुछ ही देर बाद हुआ धमाका

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी अकेले अपने बलबूते पर चुनाव लड़ेगी और अपनी सरकार बनाएगी।

मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार से आग्रह करती हूं कि किसानों की सभी मांगों को मान लेना चाहिए जिसमें तीन कृषि क़ानूनों को वापस लेना विशेष है। किसान अपने हित और अहित को अच्छी तरह से समझते हैं।

Also read:  Lockdown in Delhi: दिल्ली में बंद हो सकते हैं ये बाजार,पढ़ें पूरी लिस्ट

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि देश में कल से शुरू हो रहे कोरोना टीकाकरण अभियान का बीएसपी स्वागत करती है। हमारी पार्टी का विशेष अनुरोध है कि केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीन मुफ़्त में दे। अगर केंद्र सरकार हमारे इस अनुरोध को स्वीकार नहीं करती है तो सभी राज्य सरकारों को ये सुविधा मुफ़्त में देनी चाहिए।

मायावती ने कहा कि अगर केंद्र और उत्तर प्रदेश की वर्तमान भाजपा सरकार यहां के आम लोगों को ये (कोरोना टीकाकरण) सुविधा मुफ़्त में नहीं देती तो इस बार यहां BSP की सरकार बनने पर ये सुविधा मुफ़्त में दी जाएगी।

Also read:  Coronavirus Update: कोरोना के दैनिक मामलों में आई भारी गिरावट, पिछले 24 घंटे में दर्ज किए गए 16505 नए मामले

इससे पहले मायावती ने गुरुवार की सुबह ट्वीट कर पार्टी समर्थकों का आह्वान किया कि वे लोग इस दिन को कोरोना महामारी के नियमों का पालन करते हुए पूरी सादगी से ‘जनकल्याणकारी दिवस‘ के रूप में मनाएं।

पीड़ितों, अति-ग़रीबों व असहायों आदि की अपने सामर्थ्य के अनुसार मदद भी करें। उन्होंने कहा है कि जन्मदिन पर वह स्वलिखित पुस्तक ‘मेरे संघर्षमय जीवन एवं बीएसपी मूवमेन्ट का सफरनामा’ भाग-16 व इसके अंग्रेजी संस्करण का विमोचन भी करेंगी। इसे पढ़कर स्वाभिमानी मूवमेन्ट को आगे बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी।