English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-02-18 095448

प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) गुरुवार को पंजाब के पठानकोट में कांग्रेस के चुनावी प्रचार को धार देने पहुंचीं। इस दौरान कांग्रेस महासचिव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘बड़े मियां’ और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ‘छोटे मियां’ नाम दिया, और कहा कि उनका शासन केवल विज्ञापनों में दिखाई देता है।

 

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और आम आदमी पार्टी (आप) पर राजनीतिक लाभ के लिए धर्म और भावनाओं का इस्तेमाल करने का भी आरोप लगाया।

पठानकोट में कांग्रेस की ‘नवी सोच, नवा पंजाब’ रैली को संबोधित करते हुए प्रियंका ने कहा, ”मोदी जी का शासन केवल विज्ञापनों में है। देश में शासन नहीं है। शासन होता तो रोजगार होता और महंगाई नहीं होती। उन्होंने कहा कि अगर शासन होता तो रोजगार पैदा करने वाले सार्वजनिक उपक्रम उनके दोस्तों को नहीं बेचे जाते। देश में गरीब लोगों, छोटे व्यापारियों और छोटे उद्यमियों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।”

‘RSS से हुआ AAP का जन्म’

भाजपा और आप पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेत्री ने कहा, “दोनों राजनीति करने के लिए धर्म, भावनाओं का इस्तेमाल करते हैं। वे विकास नहीं कर रहे हैं।” प्रियंका गांधी ने आगे कहा, “क्या आपने सुना है ‘बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभानल्लाह? बड़े मियां मोदी हैं और छोटे मियां केजरीवाल हैं।” उन्होंने फिर आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से निकली है।

कांग्रेस नेत्री ने कहा कि मोदी ने केंद्र में सत्ता में आने के लिए “गुजरात मॉडल” का प्रदर्शन किया और बाद में, लोगों को उस मॉडल की वास्तविकता का एहसास हुआ, जबकि केजरीवाल “दिल्ली मॉडल” के बारे में बात करते हैं और सभी ने देखा कि उनकी सरकार कैसे पूरी तरह से दूसरी COVID-19 लहर के दौरान विफल रही। और यह तब हुआ जब केजरीवाल ने दावा किया कि उन्होंने स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए बहुत कुछ किया है।

Also read:  मध्यप्रदेश: खंडवा जिले में ज्योतिरादित्य सिंधिया की चुनावी जनसभा में किसान की मौत

‘विज्ञापनों पर हजारों करोड़ खर्च’

प्रियंका ने आरोप लगाया कि कहा कि मोदी सरकार विज्ञापनों पर हजारों करोड़ रुपये खर्च करती है। आप जहां भी जाएंगे, आपको विज्ञापन दिखाई देंगे। उत्तर प्रदेश में, उन्होंने हर जगह विज्ञापन लगाए हैं जैसे कि बहुत विकास हुआ है। लेकिन सच्चाई यह है कि बेरोजगारी बढ़ रही है और कई अन्य वर्ग समस्याओं का सामना कर रहे हैं। प्रियंका गांधी ने कहा, इसी तरह केजरीवाल भी विज्ञापनों पर करोड़ों खर्च कर रहे हैं।

पंजाबियत पर छिड़ी बहस

प्रियंका गांधी ने कहा, ”जब मैंने मोदी और केजरीवाल को पंजाबियत के बारे में बात करते सुना, तो मुझे हंसी आई। मैंने सोचा, वे पंजाबियत को कैसे समझेंगे? इसे समझने के लिए, किसी को इसे जीना होगा। पंजाबियत एक भावना है। मैंने एक पंजाबी परिवार में शादी की है और पंजाबियत का मतलब जानती हूं।”

उन्होंने आगे कहा कि पंजाबियत वह भावना है जो किसी और के सामने नहीं बल्कि ईश्वर के सामने झुकती है। जितने भी राजनीतिक दलों के नेता आपके सामने आते हैं और पंजाबियत की बात करते हैं, उनमें से एक (पीएम नरेंद्र मोदी) तो अपने उद्योगपति मित्रों के सामने झुक चुका है और दूसरा (अरविंद केजरीवाल) सिर्फ सत्ता के लिए किसी के सामने झुक जाएगा।

देश में अमीरों के लिए राजनीति

कांग्रेस नेत्री प्रियंका ने अपने भाषण में आगे कहा, ”मैं आज यहां इसलिए आई हूं, क्योंकि मैं ये सच्चाई आपको समझाना चाहती हूं। आप में बहुत विवेक है, बहुत समझदार हो, मैं जानती हूं, लेकिन कुछ चीजें मैं आपके सामने रखना चाहती हूं जिससे आप समझ पाएंगे कि यहां आपकी राजनीति में क्या-क्या हो रहा है। देखिए, पूरी तरह से देश में अमीरों के लिए राजनीति चल रही है। आज परिस्थिति ये है कि नोटबंदी लाई गई, गलत जीएसटी थोपा गया, कोरोना और लॉकडाउन आया, लेकिन आपके लिए कोई राहत नहीं आई। कोरोना के समय, लॉकडाउन के समय आपने इतना संघर्ष किया, केंद्र सरकार से, भाजपा की सरकार से कोई राहत नहीं आई।”

Also read:  पंजाब में आम आदमी करेगी मुख्यमंत्री के चेहरे का ऐलान, खुद अरविंद केजरीवाल करेंगे नाम घोषित

सारे के सारे पीएसयू बेच डाले: प्रियंका

पठानकोट की रैली में प्रियंका बोलीं, ”देश में रोजगार की इतनी बड़ी समस्या है। रोजगार आते कहां से थे? बड़े-बड़े पीएसयू से आते थे। रेलवे, बीएचईएल इस तरह के पीएसयू से। सारे के सारे पीएसयू बेच डाले, किसको बेचे, उन्हीं दो उद्योगपतियों को बेच दिए, जिनके सामने आप रोज-रोज झुकते हैं। बेच दिए आपने, और जो नहीं बेचे हैं, उनको बेचने की योजना कर रहे हैं।”

5-6 किलोमीटर जाकर किसानों से नहीं मिल सके PM

किसानों के मुद्दे को छेड़ते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि सरकार कृषि कानून लाकर अन्नदाताओं के खून-पसीने की मेहनत की कमाई उन्हीं उद्योगपतियों को देने जा रही थी। आप सब उसको अच्छी तरह से समझे और आपने आंदोलन किया। जो प्रधानमंत्री कल चुनाव के लिए पठानकोट आए, वही प्रधानमंत्री दिल्ली में किसानों से मिलने के लिए 5-6 किलोमीटर तक नहीं आ पाए। एक साल उनसे आंदोलन कराया. 700 किसान शहीद हो गए, लेकिन पूछने कोई नहीं आया। उल्टा उनके मंत्री (अजय मिश्रा टेनी) के बेटे (आशीष मिश्रा) ने 6 किसानों को जीप के नीचे कुचल दिया और कोई कार्रवाई नहीं हुई। आज कल पता चला कि उसी मंत्री के बेटे की जमानत भी हो गई है।

Also read:  यूपी में कांग्रेस ने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट की जारी, जाने कहां से मिला किसे टिकट

16 हजार करोड़ के हवाई जहाज खरीदे

रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस महासचिव ने प्रधानमंत्री को कई बार घेरा और अपने आरोपों में कहा, पीएम अमेरिका गए और कनाडा गए, अपने लिए 16 हजार करोड़ के दो हवाई जहाज खरीद लिए, लेकिन गन्ना किसान का बकाया 14 हजार करोड़ नहीं दिया। 16 हजार करोड़ के दो हवाई जहाज खरीद लिए और पूरी दुनिया का भ्रमण कर लिया, लेकिन किसानों से नहीं मिल पाए। एक भी बार अपने घर से नहीं निकले, आए नहीं, पूछा कि किसान भाई, खड़े हैं, बहनें खड़ी हैं, एक साल हो चुका है।

वहीं, पंजाब के लोगों से एक स्थिर सरकार प्रदान करने के लिए कांग्रेस को फिर से सत्ता में लाने की अपील करते हुए, प्रियंका गांधी ने उनसे धर्म के नाम पर वोट मांगने वालों से सावधान रहने को कहा। उन्होंने पंजाब के लोगों से कहा कि कुछ दल आपको असुरक्षित महसूस कराकर वोट हासिल करना चाहते हैं, लेकिन कोई विकास या आपकी समस्याओं के बारे में बात नहीं कर रहा है।

कांग्रेस महासचिव ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने अपने 111 दिनों के छोटे कार्यकाल के बावजूद बहुत से काम किए जिससे समाज के विभिन्न वर्गों को लाभ हुआ। वहीं, शाम को प्रियंका गांधी ने लुधियाना में जनसंपर्क अभियान चलाया।