English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-07-16 105013

देश के कई राज्यों में मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। वहीं, उत्तर प्रदेश और बिहार में कम बारिश से सूखाड़ का संकट गहराने लगा है।

 

16 जुलाई के लिए मौसम विभाग का पूर्वानुमान राहत देने वाला है। उत्तरी ओडिशा पर एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। साथ ही उत्तर प्रायद्वीपीय भारत में एक पूर्व-पश्चिम ट्रफ रेखा चल रही है। इससे अगले 3-4 दिनों में मध्य, दक्षिण-पश्चिम भारत और इसके आसपास के क्षेत्रों में रुक-रुक कर और गरज के साथ बारिश होने की संभावना है।

Also read:  नगर पालिका मंत्री ने कृषि जनगणना पुस्तक का विमोचन किया

आपको बता दें कि ओडिशा, गुजरात, कोंकण, गोवा, मध्य महाराष्ट्र और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक के अलग-अलग क्षेत्रों में 100 मिमी / दिन से अधिक वर्षा संभव है। इन इलाकों में मंगलवार से बारिश की गतिविधियां कम हो जाएंगी। वहीं, बंगाल की खाड़ी से दक्षिण और दक्षिण-पश्चिमी नमी वाली हवाओं का प्रभाव बढ़ेगा और शनिवार से एक बार फिर पूर्वोत्तर भारत में भारी बारिश की संभावना है।

यूपी- बिहार में कब होगी बारिश?

16 जुलाई यानी आज के लिए जारी मौसम अपडेट्स के मुताबिक, अरुणाचल प्रदेश, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार, उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, राजस्थान और तटीय आंध्र प्रदेश में गरज के साथ छिटपुट बौछारें पड़ने की संभावना है। उत्तर प्रदेश, रायलसीमा, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में बिजली गिरने की संभावना है।

Also read:  खाद्य वस्तुओं पर GST बढ़ाए जाने पर राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को बनाया निशाना, कहा-भारतीय जनता पार्टी ने दुनिया की एक तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया

ओडिशा और गुजरात के अलग-अलग हिस्सों में भारी बारिश की संभावना

आज पूर्वी राजस्थान, मध्य प्रदेश, पूरे महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, छत्तीसगढ़, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल और माहे के अलग-अलग इलाकों में भारी बारिश की संभावना है। साथ ही ओडिशा, पूर्वी मध्य प्रदेश, गुजरात, पूरे महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, तटीय कर्नाटक, केरल और माहे में गरज के साथ व्यापक बौछारें पड़ने की संभावना है। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, तेलंगाना, पश्चिम मध्य प्रदेश, उत्तर और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, लक्षद्वीप में गरज के साथ व्यापक बारिश का अनुमान है।

Also read:  चीनी सैनिक जो लद्दाख सीमा के पास पकड़े गए थे, उन्हें मंगलवार रात को वापस चीन भेज दिया गया