English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-08-19 091316

यूपी में सीएम योगी का माफियाओं पर शिकंजा कसने का असर साफ दिखाई देने लगा है। योगी सरकार की नकेल से मऊ के पूर्व विधायक माफिया मुख्तार अंसारी और उनके परिवार की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं।

 

पूरा परिवार मुकदमों के जाल में फंस चुका है। उनके ऊपर 59 मुकदमे हैं तो उनकी पत्नी आफ्शां अंसारी छह व एमएलए बेटा अब्बास अंसारी सात मामलों में आरोपी है। भाई अफजाल अंसारी समेत रिश्तेदारों पर भी अलग अलग केस हो गए हैं। यहां तक की कई केसों में अंसारी परिवार की महिलाओं को भी नामजद कर दिया गया है।

मुख्तार अंसारी पर संगीन अपराधों के साथ ही अब भ्रष्टाचार, विधायक निधि गबन व आय से अधिक संपत्ति के मामले हैं। यह मुकदमे यूपी के गाजीपुर, मऊ, सोनभद्र, वाराणसी, लखनऊ में दर्ज हैं। इसके साथ ही दिल्ली, पंजाब व बिहार में भी कई मुकदमे चल रहे हैं।

पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी का आपराधिक नेटवर्क यूपी समेत कई राज्यों में है। उसके खिलाफ यूपी, बिहार, दिल्ली व पंजाब में 12 जनपदों के 23 थानों में 59 मुकदमे दर्ज हैं। पूर्व विधायक पर एमपी/एमएलए कोर्ट से जुड़े ज्यादा मामले में गाजीपुर, मऊ, सोनभद्र, वाराणसी, लखनऊ व नई दिल्ली में हैं।

Also read:  सोनाली फोगाट मर्डर केस मामले की गोवा के CM प्रमोद सावंत ने CBI जांच की सिफारिश की

पुलिस के पास उनके सगे-संबंधियों व गुर्गों की भी लंबी फेहरिस्त है। मुख्तार अंसारी पर हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण, रंगदारी के लिए धमकी, दंगा भड़काने, धोखाधड़ी, सरकारी व निजी संपत्तियों पर कब्जा करने, अवैध वसूली, असलहों, मछली की तस्करी, गैंगस्टर क्रिमिनल ला अमेंडमेंट एक्ट, मकोका, एनएसए समेत कई धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं। आफ्शां अंसारी पर भी कसा शिकंजा

पत्नी भी पुलिस रिकार्ड में गैंगस्टर

मुख्तार अंसारी की पत्नी आफ्शां अंसारी पुलिस रिकार्ड में गैंगस्टर हैं। उन पर आईएस-191 गैंग के सरगना के साथ मिलकर अर्जित किए गए धन से अवैध संपत्तियां खरीदने का आरोप है। गाजीपुर सदर कोतवाली, सैदपुर, नंदगंज व मऊ के दक्षिणटोला थाने में उनके खिलाफ छह मामले दर्ज हैं।

मऊ के दक्षिण टोला थाने में गैंगस्टर समेत कई धाराओं में केस दर्ज है। गाजीपुर के थानों में दर्ज मामलों में उनकी तलाश जारी है। गैंगस्टर एक्ट में पेश न होने पर कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। कुर्की की तैयारी हो चुकी है। मऊ पुलिस ने मुहम्मदाबाद के यूसुफपुर क्षेत्र में डुगडुगी पिटवाकर नोटिस चस्पा करा दी है।

छोटे बेटे उमर अंसारी पर पांच, बड़े पर सात केस

मुख्तार अंसारी के छोटे बेटे उमर अंसारी पर लखनऊ, गाजीपुर और मऊ में पांच केस दर्ज हैं। बड़े बेटे विधायक अब्बास अंसारी पर सात केस हैं। मुख्तार के सबसे बड़े भाई सिबगतुल्लाह पर भी तीन मुकदमे दर्ज हैं। उनके बहनोई एजाजुल हक पर मुहम्मदाबाद 4 मुकदमे, चाचा के लड़के मंसूर अहमद पर दो केस दर्ज हैं।

Also read:  Coronavirus India: कोरोना पर राहत भरी खबर, छह महीने बाद नए मामलों की संख्या 20 हजार से कम

बड़े पिता के बेटे गौस मोहिनुद्दीन पर दो केस दर्ज हैं। मुख्तार का साला अतउर्रहमान उर्फ बाबू पर सात केस दर्ज हैं और वह इनामियां भी है। सांसद अफजाल अंसारी की पत्नी फरहत अंसारी के खिलाफ 30 अक्तूबर 2020 को लखनऊ में एफआईआर दर्ज किया जा चुका है।

मुख्तार के विधायक बेटे अब्बास अंसारी पर सात मुकदमे हैं। लखनऊ में दो, मऊ में चार व गाजीपुर में एक केस दर्ज है। अब्बास अंसारी पर एक ही लाइसेंस से कई हथियार खरीदने का आरोप है। वर्ष 2012 में बिना एनओसी ही लाइसेंस को दिल्ली ट्रांसफर करा लिया गया था। कोर्ट में पेश न होने पर उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है। उन्हें 25 अगस्त तक गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया है।

भाई सांसद अफजाल पर गैंगस्टर समेत छह केस

गाजीपुर। पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी के भाई और जिले के सांसद अफजाल अंसारी पर आपराधिक छह केस दर्ज हैं। गाजीपुर में पांच व चंदौली में एक मुकदमा दर्ज है। उनके खिलाफ पहला केस नोनहरा थाने में सन् 1988 में दर्ज किया गया था। सन् 1997 में शांतिभंग की आशंका में धारा 151 के तहत कार्रवाई की गई थी।

Also read:  26 मार्च को होगा IPL का आगाज, जाने पूरा सेड्यूल

वर्ष 2001 में मुहम्मदाबाद एसडीएम के कार्यालय में बवाल करने का मामला केस है। वर्ष 2007 में मुहम्मदाबाद में हत्या के मामले में साजिशकर्ता व गैंगस्टर एक्ट भी उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। गाजीपुर सदर कोतवाली में भी विस्फोटक अधिनियम व 7 क्रिमिनल एक्ट का केस है। चंदौली में उनके खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का केस दर्ज है।

बाहुबली के दो साले भी गैंगस्टर एक्ट में आरोपी

गाजीपुर आपराधिक गैंग आईएस-191 के सरगना मुख्तार अंसारी के साले शरजील रजा व अनवर शहजाद पर संगठित अपराध करने का आरोप है। पूर्व विधायक के दोनों सालों पर शहर कोतवाली के छावनी लाइन और मौजा बवेड़ी में जमीन पर अवैध कब्जे, फर्जी दस्तावेज तैयार करने, सरकारी धन के गबन के मुकदमे दर्ज हैं। दोनों पर छह-छह केस दर्ज हैं। गाजीपुर सदर कोतवाली में चार-वार और नंदगंज थाने में दो-दो केस हैं।