English മലയാളം

Blog

TS-Tirumurti-1

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति (TS Tirumurti) ने कहा, ‘भारत सभी शत्रुताओं को तुरंत खत्म करने का आह्वान बार-बार करता रहा है। हमारे प्रधानमंत्री ने एक बार फिर दोनों पक्षों के नेतृत्व से बात की और तत्काल युद्धविराम का आह्वान किया।’

 

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की बैठक में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति (TS Tirumurti) ने कहा कि यूक्रेन में स्थिति निरंतर बिगड़ रही है। मानवीय संकट गहराता जा रहा है। संयुक्त राष्ट्र की मानें तो, पिछले ग्यारह दिनों में 15 लाख से ज्यादा शरणार्थियों ने यूक्रेन (Ukraine) के पड़ोसी देशों में शरण ली है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन में बिगड़ती स्थिति और आगामी मानवीय संकट पर हमें तुरंत ध्यान देना चाहिए, ताकि हालात को बिगड़ने से पहले संभाला जा सके।

Also read:  मारियुपोल के एक बड़े इस्पात संयंत्र में करीब 1,000 यूक्रेनी सैनिकों ने आत्मसमर्पण, रूस ने किया दावा

 

तिरुमूर्ति ने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र के अनुमानों के अनुसार, अब तक 140 से ज्यादा नागरिक इस जंग में मारे जा चुके हैं। इनमें एक भारतीय छात्र भी शामिल है। भारत मारे गए छात्र के निधन पर शोक व्यक्त करता है। हम उनके परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं। इस संघर्ष में हर नागरिक के नुकसान पर हम शोक व्यक्त करते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘भारत सभी शत्रुताओं को तुरंत खत्म करने का आह्वान बार-बार करता रहा है। हमारे प्रधानमंत्री ने एक बार फिर दोनों पक्षों के नेतृत्व से बात की और तत्काल युद्धविराम का आह्वान किया। उन्होंने दोनों पक्षों को बातचीत के रास्ते पर लौटने की जरूरत पर जोर डाला।’

Also read:  यूक्रेन वार में घायल हुआ भारतीय छात्र की आज स्वदेश वापसी, जनरल वीके सिंह करवाएंगे अस्पताल में भर्ती

20,000 से ज्यादा भारतीय सुरक्षित स्वदेश लौटे

टीएस तिरुमूर्ति ने कहा, ‘हमने भारतीयों सहित सभी देशों के नागरिकों के लिए एक सुरक्षित मार्ग की अपनी तत्काल मांग को दोहराया है। हम इस बात को लेकर बेहद चिंतित हैं कि दोनों पक्षों से बार-बार अपील करने के बावजूद, सुमी में हमारे छात्रों के लिए एक सुरक्षित गलियारा नहीं बन पाया है।’ उन्होंने कहा, ‘हम यूक्रेन से 20,000 से ज्यादा भारतीयों की सुरक्षित निकासी को सुगम बनाने में सफल रहे हैं। हमने अन्य देशों के नागरिकों को भी उनके संबंधित देशों में लौटने में सहायता की है। यही नहीं, हम आने वाले दिनों में भी ऐसा करने के लिए पूरी तरह से तैयार रहेंगे।’

Also read:  साउथ कोरिया में कोरिया में बढ़ी कोरोना की रफ्तार, 4 लाख से ज्यादा नए मामले आए सामने

भारत ने यूक्रेन और उसके पड़ोसी देशों को पहुंचाई सहायता

तिरुमूर्ति ने कहा, ‘भारत यूक्रेन और उसके पड़ोसी देशों को पहले ही मानवीय सहायता भेज चुका है। इनमें दवाएं, टेंट, पानी के भंडारण टैंक, अन्य राहत सामग्री शामिल हैं। हम अन्य आवश्यकताओं की पहचान करने और उन्हें भेजने की प्रक्रिया में हैं।’ उन्होंने आगे कहा, ‘भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए 80 से ज्यादा निकासी उड़ानें आसमान में उड़ान भर रही हैं। हम अपने नागरिकों की वापसी की सुविधा में यूक्रेन और उसके पड़ोसी देशों के अधिकारियों द्वारा प्रदान की गई सहायता की सराहना करते हैं।’