English മലയാളം

Blog

पेरिस: 

फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने लंदन से लौटे अपने एक नागरिक में नए ब्रिटिश कोरोनावायरस (British Coronavirus) वैरिएंट की पुष्टि की है. ब्रिटेन में उपजे नए कोरोनावायरस स्ट्रेन (New Coronavirus Strain) को विशेषज्ञों ने अधिक संक्रामक और घातक बताया है. इससे डर कर 50 से अधिक देशों ने ब्रिटेन पर यात्रा प्रतिबंध लगा दिया है.

फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार देर रात जारी बयान में कहा, “पहला फ्रांसीसी मामला- ब्रिटेन में रहने वाले एक नागरिक में पाया गया जो 19 दिसंबर को लंदन से आया था- रोगी मध्य फ्रांस के टूर्स में अपने घर पर स्वैच्छिक आइसोलेशन में है. वह बिना लक्षण वाले स्ट्रेन से पीड़ित पाया गया है.”

Also read:  भारतीय-अमेरिकी भव्य लाल को नासा का कार्यकारी प्रमुख नियुक्त किया गया

बयान में कहा गया है कि लंदन से लौटने के बाद 21 दिसंबर को उसकी जांच की गई, जिसमें वह नए स्ट्रेन से पॉजिटिव पाया गया. बयान में कहा गया है कि स्वास्थ्य अधिकारी लंदन  से लौटे रोगी की देखभाल करने वाले स्वास्थ्य पेशेवरों के भी कॉन्टैक्ट की ट्रेसिंग कर रहे हैं, ताकि उसका प्रसार रोका जा सके. मंत्रालय ने कहा है कि अगर किसी संपर्क में आए व्यक्ति में लक्षण मिलते हैं तो उसे तुरंत आइसोलेट किया जाय.

Also read:  उत्तराखंड: आज से खुलेंगे कॉलेज, बाहरी छात्रों को लानी होगी कोरोना की जांच रिपोर्ट

बयान में कहा गया है कि राष्ट्रीय पाश्चर संस्थान के विशेषज्ञ प्रयोगशालाओं द्वारा इस पहले मामले के अलावा, कई अन्य सकारात्मक नमूने, जो “सुझाव दे सकते हैं कि VOC 202012/01 संस्करण का प्रसार किया जा रहा है” का परीक्षण किया जा रहा है.

Also read:  कोरोना: पिछले 24 घंटे में मिले 27071 नए मरीज, IIT मद्रास के छात्रावास में सभी छात्रों का होगा टेस्ट

सोमवार को ही फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री ओलिवियर वेरन ने स्वीकार किया था कि यह संभव है कि देश में पहले से ही नया कोविड स्ट्रेन मौजूद हो. इटली के अधिकारियों ने भी रोम में इस तरह के पहले मरीज की पहचान की है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने डेनमार्क, नीदरलैंड और आस्ट्रेलिया में इस तरह के नौ मरीजों की पुष्टि की है.