English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-01-06 115139

शूटर दादी’ के नाम से चर्चित चंद्रो तोमर के नाम पर नोएडा के सेक्टर-21-ए स्टेडियम में 20 करोड़ रुपये की लागत से 4,450 वर्ग मीटर में शूटिंग रेंज का निर्माण किया गया है।

 

दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर जिले के नोएडा (Noida) में एक स्टेडियम में नवनिर्मित शूटिंग रेंज (Shooting Range) का नाम ‘शूटर दादी’ के नाम से चर्चित चंद्रो तोमर (Chandro Tomar) के नाम पर रखा गया है और बुधवार को इसका विधिवत उद्घाटन किया गया। नोएडा के इस स्टेडियम में 20 करोड़ रुपये की लागत से 4,450 वर्ग मीटर में शूटिंग रेंज का निर्माण किया गया है।

Also read:  चार धाम यात्रा के लिए 50 वर्ष से अधिक आयु के तीर्थयात्रियों के लिए सरकार ने बनाए नए नियम, बिना जांच के नहीं कर पाएंगे यात्रा

अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शूटिंग रेंज की विधिवत शुरुआत गौतमबुद्ध नगर के सांसद महेश शर्मा (MP Mahesh Sharma), नोएडा के विधायक पंकज सिंह और जेवर के विधायक धीरेंद्र सिंह की उपस्थिति में हुई और इस मौके पर शूटर दादी के परिवार के सदस्य भी मौजूद रहे। नोएडा के सेक्टर-21-ए स्टेडियम में 20 करोड़ रुपये की लागत से 4,450 वर्ग मीटर में शूटिंग रेंज का निर्माण किया गया है।

Also read:  UPI Payment को लेकर RBI गवर्नर ने किया ये बड़ा ऐलान, अब बिना डेबिट कार्ड के आप ATM से निकाल सकते हैं पैसे

विधायक की मांग पर CM योगी ने की थी घोषणा

नोएडा शूटिंग रेंज का नाम ‘शूटर दादी’ के नाम पर रखने के लिए जेवर से भाजपा विधायक धीरेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था जिसपर करीब सात महीने मुख्यमंत्री ने अपनी सहमति दे दी थी।  21 जून को ही विधायक ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने खत में शूटिंग रेंज को दादी में शूटिंग रेंज को दादी चंद्रो तोमर के नाम पर रखे जाने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि ऐसा करके महिला सशक्तिकरण को बल दिया जा सकेगा। सही मायने में यह उन्हें श्रद्धांजलि होगी। इस फैसले से उनके नाम को अमरत्व मिलेगा। हमारी आने वाली पीढ़ी उन्हें याद करेगी।

Also read:  बिहार मंत्रीमंडल मंडल गठन के बाद बढ़ा विवाद, कानून मंत्री के खिलाफ ही कोर्ट ने जारी किया वारंट

पिछले साल 22 जून को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा में बनने वाले शूटिंग रेंज को ‘चंद्रो तोमर शूटिंग रेंज’ नाम देने की घोषणा की थी. उल्लेखनीय है कि दादी चंद्रो तोमर बागपत की रहने वाली थीं। वह दुनिया की सबसे उम्रदराज निशानेबाज थीं। पिछले साल 30 अप्रैल को कोरोना वायरस से उनका निधन हो गया था।