English മലയാളം

Blog

Sharadiya Navratri 2020: साल 2020 में शारदीय नवरात्रि (Sharadiya Navratri 2020) की शुरुआत 17 अक्टूबर (Navratri Date) से हो रही है. देश भर में 9 दिनों तक मां दुर्गा के 9 रूपों की अराधना के इस पर्व का अंतिम दिन 25 अक्टूबर होगा. नवरात्रि की अष्टमी और नवमी तिथि पर घरों और मंदिरो में कन्या पूजन किया जाता है. साल में 4 बार नवरात्रि आती हैं. इनके नाम हैं शरद नवरात्रि (Sharad Navratri), चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri), गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri) और माघ नवरात्रि (Magh Navratri). इसबार अधिक मास पड़ने के कारण शारदीय नवरात्र एक महीने देर से शुरू हो रहे हैं. वहीं चैत्र नवरात्रि मार्च-अप्रैल या हिंदू कैलेंडर के चैत्र महीने में पड़ती है. नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के भक्त उनके नौ रूपों की पूजा करते हैं.

उत्तर, पूर्वी और पश्चिम भारत में खासतौर पर लोग व्रत रखते हैं. नवरात्र‍ि मनाने वाले घरों में इस दौरान सात्विक भोजन बनता है. जो व्रत रखते हैं, वे अन्न नहीं खाते, फलाहार लेते हैं. शुद्धता का ख्याल रखते हुए नमक की जगह सेंधा नमक (रॉक सॉल्ट) लिया जाता है. वैसे, यह ज़रूरी नहीं कि व्रत में हम केवल चाय, दूध या फल खाकर काम चला लें. आप व्रत का पालन करते हुए भी त्योहार का मज़ा ले सकते हैं. इस बार इन फलाहारी पकवानों का लुत्फ ज़रूर उठाइये…

Also read:  हिमाचल प्रदेश में 39% लोग मोटापे के शिकार, 11.5% लोग डायबिटीज़ से पीड़ित: स्टडी

नवरात्रि व्रत के लिए कैसे बनाएं पौष्टिक फलाहार | 6 Healthy Falahar For Navratri

1.कुट्टू का डोसा

कुट्टू को बकवीट भी बोलते हैं. आमतौर पर हम व्रत के दौरान कुट्टू के आटे का हलवा या पूरी बनाकर खाते हैं. इस बार आप इसे डोसे के रूप में खाएं. साथ में उबले आलू की स्टफिंग डालें. घर में जो लोग व्रत नहीं कर रहे हैं उनके लिए भी ये किसी ट्रीट से कम नहीं होगा.

Also read:  सर्दियों में इन 5 घरेलू नुस्खों से ऐसे करें अपने बालों और त्वचा की देखभाल

2. आलू की कढ़ी

जाहिर है व्रत के दौरान आप प्याज़ की पकौड़ी या बेसन की पकौड़ी वाली कढ़ी नहीं खाएंगे. ऐसे में आप आलू की कढ़ी ट्राई कर सकते हैं. आलू और दही की वजह से ये डिश आपको व्रत के दौरान ऊर्जावान रखेगी.

3. लो-फैट मखाना खीर

वो त्योहार की क्या जिसमें मीठा न हो. नवरात्रि के दौरान आप मखाना खीर ज़रूर बनाएं. साथ ही इसमें ड्राई फ्रूट्स डालना न भूलें. अगर मीठा खाने के बाद वज़न बढ़ने का डर सता रहा हो, तो आप लो-फैट मिल्क का इस्तेमाल करें. मखाना खीर न केवल स्वाद के लिहाज़ से बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी पौष्टिक है.

4.खीरे की पकौड़ी

प्याज़ न सही, तो खीरा ही सही, पकौड़ियां खाने का दिल करे तो खाइये ज़रूर. शाम को चाय के साथ आप खीरे की पकौड़ी ट्राई करें. कुछ घरों में लौकी और आलू की पकौड़ी भी बनाई जाती है.

Also read:  शरीर को वायरल, इंफेक्शन और फ्लू से हमेशा दूर रखते हैं ये 4 कमाल के नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट्स!

5.बनाना-वॉलनट लस्सी

उत्तर, पूर्वी और पश्चिम भारत में खासतौर पर लोग व्रत रखते हैं. नवरात्र‍ि मनाने वाले घरों में इस दौरान सात्विक भोजन बनता है. जो व्रत रखते हैं, वे अन्न नहीं खाते, फलाहार लेते हैं. शुद्धता का ख्याल रखते हुए नमक की जगह सेंधा नमक (रॉक सॉल्ट) लिया जाता है. वैसे, यह ज़रूरी नहीं कि व्रत में हम केवल चाय, दूध या फल खाकर काम चला लें. आप व्रत का पालन करते हुए भी त्योहार का मज़ा ले सकते हैं.

6. कबाब-ए-केला

व्रत की बोरियत दूर करनी है तो आप मज़ेदार कबाब-ए-केला ज़रूर चखे. केला, इलाइची और अदरक को साथ में उबालकर मैश करें. फिर छोटे-छोटे लड्डू बनाकर तवे पर सेंक लें या फिर घी में तल लें.