English മലയാളം

Blog

कुंडली बॉर्डर पर किसानों के धरने में बैठे पंजाब के एक किसान की मंगलवार को मौत हो गई। मंगलवार दोपहर करीब पौने 1 बजे 74 साल के किसान गुरमीत सिंह के सीने में दर्द उठा और उन्होंने दम तोड़ दिया। गुरमीत पंजाब के मोहाली के गांव कंडाला के रहने वाले थे। अब तक किसान आंदोलन में दस किसानों की मौत हो चुकी है। इनमें छह टीकरी बॉर्डर और चार कुंडली बॉर्डर पर लगे धरने में शामिल हुए थे।

सोमवार को एक किसान की ठंड में हार्ट अटैक आने से मौत हो गई। टीकरी बॉर्डर पर छह आंदोलनकारियों की मौत हो चुकी है। इनमें से ज्यादातर अधेड़ उम्र के थे। एक आंदोलनकारी की गाड़ी में जलने से और अन्य की हृदयाघात या अन्य कारणों से मौत हुई है। वहीं कुंडली बार्डर पर चार किसानों की मौत हो चुकी है। इनमें एक की सड़क हादसे व तीन की हार्ट अटैक से जान जा चुकी है।

Also read:  हनुमान चालीसा विवाद मामले में मुंबई हाईकोर्ट में आज होगी सुनवाई, क्या मिल पाएगी राणा दंपत्ति को जमानत?

पंजाब के जिला मोगा के गांव भिंडर कलां का रहने वाला मक्खन खान (42) अपने साथी बलकार व अन्य के साथ तीन दिन पहले कुंडली बॉर्डर पर आया था। उसके साथी गुरिंद्र सिंह ने बताया कि मक्खन खान को वह लंगर में सेवा करने के लिए लेकर आए थे। सोमवार को मक्खन के सीने में दर्द हुआ। जब तक उसे अस्पताल ले जाया गया, उसकी मौत हो चुकी थी।

Also read:  सिंघु बॉर्डर पर तैनात दिल्ली पुलिस के दो आईपीएस अफसर कोरोना पॉजिटिव

गुरिंद्र सिंह ने कहा कि ठंड की वजह से किसान हार्ट अटैक का शिकार हो रहे हैं। सर्दी की वजह से खून जमने के कारण किसानों की जान जा रही है। किसान की मौत की सूचना पर कुंडली थाना पुलिस अस्पताल में पहुंची। मक्खन खान की मौत को किसानों ने शहादत बताया है। उन्होंने कहा कि किसान अपनी लड़ाई आखिरी दम तक जारी रखेंगे।  कुंडली धरनास्थल पर ठंड से हार्ट अटैक के कारण तीसरे किसान की जान गई है। इससे पहले भी गांव बरोदा के किसान अजय और मोगा के किसान मक्खन खान की मौत हार्ट अटैक से हो चुकी है।

Also read:  कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने लोकसभा में कहा भारत ने 2014 के बाद नहीं खोई एक इंच भी जमीन