English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-03-14 105543

गोवा बीजेपी के नवनिर्वाचित विधायक विश्वजीत राणे ने सीएम प्रमोद सावंत को अपना नेता मानने से इनकार कर दिया है।

गोवा विधानसभा चुनाव के नतीजे में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आयी है तो वहीं अब सरकार बनाने में अंदरूनी खिंचातानी शुरू हो गई है। गोवा बीजेपी के नवनिर्वाचित विधायक विश्वजीत राणे ने सीएम प्रमोद सावंत को अपना नेता मानने से इनकार कर दिया है। राणे परिवार की ओर से लगातार दूसरे दिन स्थानिक अखबारों में दिए विज्ञापन में सीएम प्रमोद सावंत की तस्वीर गायब रही।

इस विज्ञापन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, गोवा चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस और गोवा के प्रभारी सिटी रवि के साथ प्रदेश अध्यक्ष सदानंद सेठ की तस्वीर देखने को मिली लेकिन जिनके नेतृत्व में चुनाव लड़ा गया उनकी तस्वीर (प्रमोद सावंत) की गायब रही। बता दें, वालपाई विधानसभा से विश्वजीत राणे ने जीत हासिल की है। आज उन्होंने विज्ञापन के जरिए जनता का धन्यवाद किया है।

Also read:  देश में कोरोना से पिछले 24घंटे में 43 लोगों की मौत, आए 1033 नए मामले

दिव्या राणे के भी विज्ञापन में नहीं थी प्रमोद सावंत की तस्वीर

बता दें कि राज्य में 16 मार्च की विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। लेकिन अब तक सीएम के नाम का ऐलान नहीं हुआ है। वहीं बीते शनिवार बीजेपी के विधायक विश्वजीत राणे अचानक राज्यपाल से मिलने पहुंच गए। विश्वजीत राणे की पत्नी दिव्या राणे जो बीजेपी में ही हैं और परवेम विधानसभा सीट से जीती हैं। दिव्या ने रविवार को गोवा के मराठी भाषी अखबार लोकमत में पूरे पेज का विज्ञापन छपवाया है। जिसमें से प्रमोद सावंत का चेहरा ही गायब है और उस पोस्टर में लिखा है।

Also read:  कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीनेशन अभियान का दूसरा चरण आज से शुरू,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ली पहली डोज

‘गोवा के इतिहास में ऐसा कभी नहीं, गोवा राज्य की स्थापना से लेकर अब तक ऐसा नहीं हुआ कि कोई उम्मीदवार किसी भी पार्टी का 13 हजार 943 वोट के अंतर से जीत दर्ज करे। परवेम से बीजेपी उम्मीदवार दिव्य विश्वजीत राणे ने ये कीर्तिमान हासिल किया है, महिला शक्ति का उदय हुआ है।’

Also read:  UP Election Result 2022: चुनाव हाने के बाद बोली मायावती- घबराकर टूटना नहीं, सबक सीखकर बढ़ाना

क्या केंद्रीय नेतृत्व भी उलझन में है?

ऐसे में गोवा में सस्पेंस बना हुआ है। अब सवाल है कि क्या केंद्रीय नेतृत्व भी उलझन में है? क्या सिर्फ तारीख को लेकर सस्पेंस है? क्या सिर्फ समर्थन लेने पर फैसला नहीं हुआ है? या गोवा में सीएम बदलने की आहट है?