English മലയാളം

Blog

पिछले आठ महीनों में, पाकिस्तान द्वारा 3,000 से अधिक बार युद्धविराम उल्लंघन किए गए हैं, जो पिछले 17 वर्षों में सबसे अधिक है. साल 2003 में भारत और पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर युद्धविराम का समझौता किया था.

पाकिस्तान की तरफ से आज (गुरुवार, 01 अक्टूबर) किए गए सीज़फायर के उल्लंघन  में LoC के पास जम्मू-कश्मीर में सेना के तीन जवान शहीद हो गए हैं, जबकि पांच जवान इस हमले में घायल हुए हैं. सेना के जवान पाकिस्तान की इस करतूत का मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं. सेना सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे सेना के पोस्ट पर मोर्टार दागकर उन्हें निशाना बनाया.

Also read:  15 वें राष्ट्रपति का चुनाव आज, संसद भवन और राज्य की विधानसभाओं में वोटिंग शुरू

सेना के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के नौगाम सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से अचानक दागे गए मोर्टार में दो जवान शहीद हो गए और चार घायल हो गए. प्रवक्ता के मुताबिक घायल जवानों को वहां से हटाकर सुरक्षित ठिकाने पर ले जाया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है. भारतीयसेना की मुंहतोड़ और जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की तरफ से कितनी जानें गई हैं, अभी इसका पता नहीं चल सका है.

इससे पहले भी, पाकिस्तान की सेना द्वारा पुंछ सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन कर भारतीय चौकियों पर भारी गोलीबारी शुरू कर दी गई थी। इसमें एक सैनिक शहीद हो गया था, जबकि दूसरा जवान  घायल हो गया थI

Also read:  यूएई दुनिया का सबसे भरोसेमंद ग्लोबल गोल्ड मार्केट बन गया है

सेना के प्रवक्ता ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के नौगाम सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से अचानक दागे गए मोर्टार में दो जवान शहीद हो गए और चार घायल हो गए. प्रवक्ता के मुताबिक घायल जवानों को वहां से हटाकर सुरक्षित ठिकाने पर ले जाया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है. भारतीयसेना की मुंहतोड़ और जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की तरफ से कितनी जानें गई हैं, अभी इसका पता नहीं चल सका है.

Also read:  उत्तर प्रदेश में हालात का जायजा लेने के बाद चुनाव पर फैसला लेगा चुनाव आयोग

इससे पहले भी, पाकिस्तान की सेना द्वारा पुंछ सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन कर भारतीय चौकियों पर भारी गोलीबारी शुरू कर दी गई थी। इसमें एक सैनिक शहीद हो गया था, जबकि दूसरा जवान  घायल हो गया थ

पिछले आठ महीनों में, पाकिस्तान द्वारा 3,000 से अधिक बार युद्धविराम उल्लंघन किए गए हैं, जो पिछले 17 वर्षों में सबसे अधिक है. साल 2003 में भारत और पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर युद्धविराम का समझौता किया था.