English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-02-17 131758

याचिकाकर्ता का कहना है कि कोविड के कारण बच्चों ने ऑनलाइन पढ़ाई की है। कोरोना महामारी का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है। बच्चों के मूल्यांकन का कोई और तरीका निकाला जाना चाहिए।

 

सीबीएसई, आईसीएसई और राज्य बोर्ड की 10वीं और 12वीं की फिजिकल परीक्षा के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट जल्द सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। चीफ जस्टिस एन. वी रमना ने याचिकाकर्ता को आश्वासन दिया कि पिछले साल मामले की सुनवाई करने वाले जस्टिस ए एम खानविलकर की बेंच में जल्द ही मामला लगाया जाएगा।

Also read:  सीएम योगी ने गोरखपुर में किया रोड शो, भगवामय हुईं सड़कें, लोगों ने घरों से बरसाए फूल

याचिकाकर्ता का कहना है कि कोविड के कारण बच्चों ने ऑनलाइन पढ़ाई की है। कोरोना महामारी का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है। बच्चों के मूल्यांकन का कोई और तरीका निकाला जाना चाहिए।

Also read:  बीजेपी ने यूपी में सहयोगी पार्टियों के बीच तय किया सीट शेयरिंग का फॉर्मूला, किस दल को कितनी मिलेंगी सीटें पढ़ें

इसके साथ ही, संविधान में दिए गए मौलिक कर्तव्यों का पालन सुनिश्चित करने की मांग करने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया। याचिकाकर्ता ने राज्यों से यह जानकारी लेने की मांग की है कि उन्होंने मौलिक कर्तव्यों की जानकारी लोगों तक पहुंचाने और उन्हें जागरुक करने को लेकर क्या कदम उठाए हैं।

Also read:  मुंबई मेट्रो कार शेड प्रोजेक्ट को बॉम्बे हाईकोर्ट ने रोका, उद्धव सरकार को लगा झटका