English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली,

दिवाली के त्योहार के ठीक एक दिन बाद भारतीय सिनेमा को तगड़ा झटका लगा, जब बंगाली फ़िल्म इंडस्ट्री के लीजेंड्री एक्टर सौमित्र चटर्जी ने हमेशा के लिए आंखें मूंद ली। सौमित्र दा के निधन से फ़िल्म इंडस्ट्री में शोक छा गया।  रविवार को ही कोलकाता में पूरे राजकीय सम्मान के साथ सौमित्र चटर्जी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। आमिर ख़ान ने सोमवार को सौमित्र चटर्जी को श्रद्धांजलि दी और कहा कि भारतीय सिनेमा ने अपना एक प्रकाश-पुंज खो दिया।

85 साल के सौमित्र चटर्जी को कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, मगर काफ़ी दिनों तक भर्ती रहने के बाद उनके स्वास्थ्य में अधिक सुधार नहीं हुआ और आख़िरकार 15 नवम्बर को उन्होंने अलविदा कह दिया। आमिर ने इस दिग्गज कलाकार के निधन पर ट्वीट किया- भारतीय सिनेमा ने अपने प्रकाश-पुंजों में से एक को खो दिया है। सौमित्र जी के परिवार और उनके सभी चाहने वालों के प्रति मेरी संवेदनाएं। उनका काम हमें आनंदित करता रहेगा। श्री सौमित्र चटर्जी को श्रद्धांजलि।

इससे पहले अमिताभ बच्चन ने भी सौमित्र दा को याद करते हुए लिखा था- सौमित्र चटर्जी। एक दिग्गज प्रतिमान। फ़िल्म इंडस्ट्री के सबसे मजबूत स्तम्भों में से एक… चले गये। सज्जन आत्मा और बेहिसाब हुनर। कोलकाता में IFFI में उनसे आख़िरी बार मिला था। प्रार्थनाएं।

 

Also read:  VJ Chitra Death: होटल के कमरे में मिला 28 साल की अभिनेत्री वीजे चित्रा का शव, आत्महत्या की आशंका

बता दें, कोविड-19 पॉजिटिव आने के बाद उन्हें 6 अक्टूबर को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। हालांकि, इसके बाद उनका कोरोना वायरस टेस्ट नेगेटिव आ गया था और वो ठीक हो गए थे। बाद में उनकी तबीयत फिर से बिगड़ गई। 19 जनवरी 1935 को जन्मे सौमित्र चटर्जी ने 1959 में ओपूर संसार से फ़िल्मों में बतौर एक्टर करियर शुरू किया था। यह सत्यजीत रे की ओपू ट्रिलॉजी की आख़िरी फ़िल्म है।

Also read:  Master Box Office Collection Day 1: 'मास्टर' का सिनेमाघरों में तूफान, देश के साथ-साथ विदेश में भी की ताबड़तोड़ कमाई

बांग्ला सिनेमा में सौमित्र चटर्जी ने कई बेहतरीन और यादगार फ़िल्मों में काम किया। हालांकि, उन्हें कमर्शियल ज़ोन से अधिक कला सिनेमा का अभिनेता माना जाता है। करियर के बाद के दौर में उन्होंने कमर्शियल फ़िल्में भी ख़ूब की थीं। 2019 में वो सांझबाती में नज़र आये थे, जिसमें देव अधिकारी ने लीड रोल निभाया था।

Also read:  Mirzapur 2 Review: कुछ नहीं बदला है मिर्जापुर में, सिर्फ मुन्ना, कालीन और गुड्डू का भौकाल

कोविड-19 संक्रमण से पहले सौमित्र चटर्जी अभिजान की शूटिंग कर रहे थे, जो उनकी बायोपिक है। फ़िल्म के कुछ हिस्सों में वो अपनी भूमिका निभाते दिखायी देंगे। इसका निर्देशन परमब्रत चटर्जी कर रहे हैं। सौमित्र चटर्जी के कम उम्र वाले किरदार को जिशु सेन गुप्ता निभा रहे हैं। सौमित्र ने सुजोय घोष की शॉर्ट फ़िल्म अहल्या में भी काम किया था, जिसमें राधिका आप्टे ने उनके साथ स्क्रीन स्पेस शेयर किया था।