English മലയാളം

Blog

World Teachers’ Day 2020:  5 (October) अक्टूबर, यानि आज के दिन दुनियाभर में लोग अंतरराष्ट्रीय शिक्षक दिवस मना रहे हैं. इस दिन को मनाने की शुरूआत यूनेस्को ने साल 1994 में 5 अक्टूबर को की थी, इस दिन को मनाने का उद्देश्य विश्व भर के शिक्षक को उनके कार्य के लिए उन्हे सम्मान देना है. विश्व शिक्षक दिवस 2020 की थीम (World Teachers Day 2020 Theme)”शिक्षक: संकट में लीड करना, भविष्य को फिर से परिभाषित करना” है, जिसका उद्देश्य शिक्षकों द्वारा कोविड19 महामारी के दौरान निभाई जाने वाली भूमिका को संबोधित करना है. शिक्षक दिवस दुनिया भर के देशों में अलग अलग दिन मनाया जाता है. क्योंकि एक गुरू को भगवान का दूसरा रूप कहा जाता है. और हर एक सक्सेस व्यक्ति के पीछे एक गुरू का योगदान होता है. जो अपने स्टूडेंट्स के भविष्य को संवारने का काम करता है. इस विश्व शिक्षक दिवस को सेलिब्रेट करने के लिए इन खास डिश को बनाएं. और अपने शिक्षक का धन्यवाद करें. तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आप इस शिक्षक दिवस पर क्या बनाएं.

Also read:  Ind Vs Aus: भारतीय ने ऑस्ट्रेलियाई लड़की को किया प्रपोज, लोग बोले- 'भारत की ऐतिहासिक जीत'

इस शिक्षक दिवस पर हम आपके लिए लेकर आए हैं, ये 4 स्पेशल रेसिपी:

1.  पाइनएप्पल पेस्ट्रीः

पाइनएप्पल पेस्ट्री हमे उन दिनों की याद दिलाती है. जब हम अपने स्कूल के दिनों में किसी पिकनिक में जाते थे. और हमारे टीचर हमें लाइन में खड़ा करके पाइनएप्पल पेस्ट्री देते थे. जिसे हम बड़े ही चाव के साथ खाते थे.

Also read:  मलाइका अरोड़ा ने 'अनारकली डिस्को चली' सॉन्ग पर किया ऐसा धमाकेदार डांस, Video ने मचा दी धूम

2.  ब्रेड पकौड़ाः

कुरकुरा, तला हुआ और सुनहरा, स्वादिष्ट ब्रेड पकौड़ा शायद कैंटीन में सबसे अच्छा स्नैक्स हुआ करता था. जब हम स्कूल में अपना ब्रेकफास्ट नहीं लेकर जाते थे. तब ये हमारे स्कूल टाइम का फेवरेट स्नैक्स हुआ करता था.

3. मिल्कशेकः

मिल्कशेक या कॉफी का नाम आते ही हमारे पुराने दिन याद आने लगते हैं. जब हम अपने दोस्तों के साथ स्कूल की कैंटीन में बैठ कर चिट-चैट करते हुए इन ड्रिंक्स का लुफ्त उठाते थे

Also read:  गोविंदा ने आदित्य नारायण के रिसेप्शन में अपने ही गाने पर किया डांस, Video में पत्नी सुनीता भी साथ आईं नजर

4. आमलेटः

ऑल-टाइम पसंदीदा ऑमलेट हमारे टिफ़िन में सबसे अधिक ले जाए जाने वाले व्यंजन में से एक था. और इसको ले जाने से हम कभी इनकार नहीं करते थे. बल्कि बहुत खुशी-खुशी लेकर जाते थे. आज भी ऑमलेट तो खाते है, मगर ऐसी खुशी नहीं मिलती जैसी उन स्कूल के दिनों में मिलती थी.