English മലയാളം

Blog

Screenshot 2023-04-11 193107

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद अडानी संकट को लेकर कई आशंकाओं के बीच एलआईसी ने बड़ा कदम उठाया है। जिसके बाद एक बार फिर से यूएस शार्ट सेलर की रिपोर्ट बेअसर दिख रही है।

एलआईसी और अडानी के बीच भरोसा बरकरार दिख रहा है। एलआईसी ने अडानी ग्रुप में अपनी हिस्सेदारी 4.23 फीसदी से बढ़ाकर 4.26 फीसदी कर ली है। हाल ही में भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने अडानी एंटरप्राइज के 357,500 शेयर खरीदे।

Also read:  Delhi Lockdown: बाजारों में एक बार फिर लॉकडाउन की तैयारी में केजरीवाल सरकार

अडानी पर भरोसा बरकरार

समूह की अन्य फर्मों में एलआईसी ने अंबुजा और एसीसी के साथ-साथ अदानी पोर्ट्स में हिस्सेदारी कम करते हुए अदानी ग्रीन, अदानी ट्रांसमिशन और अदानी टोटल गैस स्टॉक खरीदे। यह अडानी समूह में एलआईसी की 30,127 करोड़ रुपये की हिस्सेदारी को जोड़ता है, जिसने फर्म के शेयरों में गिरावट की आशंकाएं बढ़ा दी थीं

Also read:  सांसद और भोजपुरी सिनेमा के स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ की फिल्म में अपोजिट में कोई हीरोइन नजर नहीं आएगी

खुदरा निवेशकों ने भी खरीदे शेयर

एलआईसी ने दीर्घकालिक दृष्टिकोण का हवाला देते हुए निवेश को सही ठहराया है, और यह स्पष्ट करते हुए आशंकाओं को भी दूर किया है कि अडानी के लिए इसका जोखिम प्रबंधन के तहत कुल संपत्ति के प्रतिशत से कम है। जैसे ही अडानी समूह के शेयरों की कीमतें नाटकीय रूप से गिरीं, 2 लाख रुपये से कम के शेयरों वाले इसके निवेशक तीन गुना बढ़ गए।
अडानी में खुदरा निवेशकों की हिस्सेदारी अब 3.41 फीसदी से घटकर 1.86 फीसदी रह गई है, म्युचुअल फंड ने अपनी हिस्सेदारी 1.19 फीसदी से घटाकर 0.87 फीसदी कर दी है।