English മലയാളം

Blog

Screenshot 2021-12-28 104622

कांग्रेस की स्थापना साल 1885 में 28 दिसंबर को की गई थी। दरअसल, मुंबई के गोकपलदास संस्कृत कॉलेज मैदान में इसकी नींव रखी गई थी, जहां देश के तमाम प्रांतों के राजनीति और सामाजिक विचारधारा के लोग एक साथ जुटे थे।

 

कांग्रेस पार्टी मंगलवार को अपना 137वां स्थापना दिवस मना रही है। पार्टी कार्यकर्ता इस दिन को संकल्प दिवस के रूप में सेटिब्रेट कर रहे हैं. इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कांग्रेस स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कांग्रेस को लोकतंत्र की स्थापना करने वाली पार्टी बताया है और इस धरोहर पर उन्हें गर्व है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘हम कांग्रेस हैं- वो पार्टी जिसने हमारे देश में लोकतंत्र की स्थापना की और हमें इस धरोहर पर गर्व है। कांग्रेस स्थापना दिवस की शुभकामनाएं।’ वहीं, कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘136 साल की सेवा। 136 साल की निस्वार्थता। हमारे लोगों की प्रगति के लिए 136 साल की प्रतिबद्धता। अपने लोगों को प्राथमिकता देने का संकल्प लेने के लिए युगों से लेकर आज तक हर कांग्रेसी को हमारा सलाम।’

 

 

Also read:  धार्मिक असहिष्णुता पर बोले सद्गुरु, कहा-भारत में धार्मिक असहिष्णुता सिर्फ टीवी पर, 10 सालों से नहीं हुआ कोई भी धार्मिक दंगा

कांग्रेस स्थापना दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित पार्टी के मुख्यालय पर कार्यक्रम आयोजिक किए जा रहे हैं, जहां सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी सहित कांग्रेस के तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद हैं। इस बीच पार्टी कार्यालय पर झंडा फहराने की कोशिश की तो फहरने की बजाय सीधे नीचे आ गया, जिसके बाद सोनिया गांधी ने हाथ से ही झंडा फहरा दिया। इसके बाद ‘वंदे मातरम्’ राष्ट्रीय गीत गाया गया। पार्टी इस दिवस को हर राज्य में जोरों से मना रही है। साथ ही साथ कार्यकर्ताओं को राज्यों व जिला कार्यालयों पर एकत्रित होने के लिए कहा गया।

Also read:   राजद विधायक सुधाकर सिंह के बयान को लेकर महागठबंधन में चल रही बयानबाजी के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस मामले में गेंद तेजस्वी यादव के पाले में डाला, जाने क्या है मामला

1885 में की गई थी कांग्रेस की स्थापना

बता दें, कांग्रेस की स्थापना साल 1885 में 28 दिसंबर को की गई थी। दरअसल, मुंबई के गोकपलदास संस्कृत कॉलेज मैदान में इसकी नींव रखी गई थी, जहां देश के तमाम प्रांतों के राजनीति और सामाजिक विचारधारा के लोग एक साथ जुटे थे। इसके बाद यह एकता राजनीतिक संगठन के रूप में बदली और कांग्रेस का गठन किया गया। कांग्रेस का पहला अध्यक्ष डब्ल्यू.सी.बनर्जी को बनाया गया।