English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

तीनों नए कृषि कानूनों (Farm Laws) को रद्द करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की गारंटी की मांग कर रहे किसानों की आज सरकार के साथ अहम बैठक है. सरकार की कोशिश है कि इस बातचीत में कुछ ठोस समाधान निकाला जाए. कड़ाके की ठंड और बारिश में किसानों का दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन (Farmers Protest) चल रहा है. इस बीच, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि नए कृषि कानून किसानों के लिए क्रांतिकारी साबित होंगे. साथ ही उन्होंने किसानों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भरोसा रखने की अपील की है.

Also read:  बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेसवे का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 मार्च को करेंगे, 90 मिनट में तूफानी गति से बेंगलुरू से मैसूर की यात्रा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कृषि कानून को लेकर एक अखबार में लेख लिखा है. उन्होंने अपने लेख को ट्विटर पर साझा करते हुए कहा, “कृषि एवं किसानों के उन्नयन के लिए नए कृषि कानून क्रांतिकारी साबित होंगे.” उन्होंने लिखा, “किसान बंधुओं से आग्रह है कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भरोसा रखें व अपने जीवन में बदलाव लाने के साथ ‘आत्मनिर्भर भारत’ की संकल्पना को साकार करने में साझेदार बनें.”

Also read:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण कन्नड़ के मुदबिदरी में जनसभा को अपने संबोधन, कहा- कर्नाटक को मैन्यूफैक्चरिंग का हब बनाना

कृषि कानून रद्द करने की मांग पर अड़े किसानों को समझाने की अब तक की सरकार की सारी कोशिशें नाकाफी साबित हुई हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद कई मौके पर किसानों को संदेश दे चुके हैं कि नए कानूनों से उनकी जमीन नहीं छिनेगी बल्कि ये कानून किसानों को और मजबूत बनाएंगे.

Also read:  Gujarat Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव की राजनीति सरगर्मी बढ़ी, राहुल गांधी मिशन गुजरात पर, पार्टी को करेंगे मजबूत

हाल ही में किसान संगठनों और सरकार की बैठक के बाद जब कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से पूछा गया कि क्या उन्हें उम्मीद है कि चार जनवरी (आज) की बैठक आखिरी दौर होगा, तो उन्होंने कहा, “मैं ऐसा पक्के तौर पर नहीं कह सकता. मै कोई ज्योतिषी नहीं हूं. मैं आशान्वित हूं कि (बैठक में) जो भी निर्णय होगा, वह देश और किसानों के हित में होगा.”