English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

देश में एक बार फिर से बढ़ते कोरोनावायरस के मामलों ने सबकी चिंताएं बढ़ा दी हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी बुधवार को कुछ राज्यों में बढ़ते कोविड के मामलों और केंद्र की वैक्सीनेशन को तेज करने की कोशिशों को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करने वाले हैं. एक साल पहले कोरोना के प्रसार के बाद से ही पीएम कुछ-कुछ अंतराल पर मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करते रहे हैं. आज भी वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अलग-अलग राज्यों का जायजा लेंगे.

पीएम मोदी ने ऐसी आखिरी मीटिंग में वैक्सीनेशन प्रोग्राम को लेकर बातचीत की थी. उस वक्त वैक्सीनेशन का पहला चरण शुरू हो रहा था, जब लगभग तीन करोड़ हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगना था. 1 मार्च से शुरू हुए दूसरे चरण में 60 साल से ऊपर की उम्र वालों और 45 साल से ऊपर के ऐसे लोग, जो गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं, उन्हें वैक्सीन लग रही है.

Also read:  दिल्ली में क्या है कोरोना वैक्सीनेशन का प्लान, CM अरविंद केजरीवाल ने दी पूरी डिटेल

बता दें कि इस बीच बुधवार की सुबह पिछले 24 घंटों में देश में कुल 28,903 नए केस दर्ज किए गए हैं. यह 11 दिसंबर, 2020 के बाद से पहली बार इतनी बड़ी संख्या में केस सामने आए हैं. इसके साथ ही देश में कोविड के अब तक कुल 1.14 करोड़ मामले हो चुके हैं और कुल मौतों का आंकड़ा 1,59,044 हो चुका है. यह भी बता दें कि 15 जनवरी, 2021 के बाद से आज सबसे ज्यादा मौतें- 188- दर्ज हुई हैं. 15 जनवरी को 191 मौतें दर्ज हुई थीं.

Also read:  पीलीभीत: नेपाल पुलिस की फायरिंग में एक भारतीय की मौत, दो लापता

पिछले 24 घंटों में सबसे ज्यादा- 17,864 केस महाराष्ट्र, केरल से 1,970, पंजाब 1,463, कर्नाटक से 1,135 और गुजरात से 954 मामले दर्ज हुए हैं. आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना केस के औसत आंकड़े 81 दिनों के उच्चतम स्तर पर हैं. बता दें कि एक महीने पहले तक कोरोना के नए मामले चार राज्यों में बढ़ रहे थे, लेकिन अब यह 19 राज्यों में मिल रहे हैं.

Also read:  भारत में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 16,488 नए मामले, 113 की मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि पिछले 10 दिनों में देश के 19 जिलों में से सबसे ज्यादा कोरोना के मामले सामने आए है, इनमें से 15 जिले महाराष्ट्र में हैं. केंद्र ने उद्धव ठाकरे की सरकार को बताया कि राज्य में ‘कोरोना की दूसरी लहर शुरू हो रही है’ और राज्य में कोविड की गाइडलाइंस के पालन के अभाव के साथ ‘कोरोना की टेस्टिंग और ट्रैकिंग को लेकर भी उचित कदम नहीं उठाए जा रहे हैं.’

इनके अलावा कर्नाटक के बेंगलुरु अर्बन, मध्य प्रदेश के इंदौर और तमिलनाडु के राजधानी में सबसे ज्यादा केस दर्ज किए जा चुके हैं.