English മലയാളം

Blog

जूलरी ब्रांड Tanishq के एक विज्ञापन को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. ट्विटर पर बायकॉट के ट्रेंड से शुरू होकर अब यह मामला ऐड हटाने से लेकर कंपनी के एक स्टोर पर हमले तक पहुंच गया है. इस ऐड पर विरोध के बीत गुजरात के गांधीधाम में कंपनी के एक स्टोर पर हमला किया गया है. वहीं, मैनेजर से जबरन माफीनामा लिखवाए जाने की खबर है.

सूत्रों ने बताया कि हमला करने वाली भीड़ ने मैनेजर से माफीनामे में लिखवाया कि ‘हम सेकुलर ऐड दिखाकर हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने के लिए कच्छ जिले को लोगों सो माफी मांगते हैं.’

Also read:  पुडुचेरी में किरण बेदी को उप राज्यपाल पद से हटाया गया

बता दें कि कंपनी ने पिछले हफ्ते अपने नए कलेक्शन ‘एकत्वम’ को लेकर एक ऐड रिलीज किया था, जिसमें दो परिवारों के बीच अंतरधार्मिक विवाह दिखाया गया था. ट्विटर पर इस ऐड को लेकर  #BoycottTanishq ट्रेंड होने लगा था. सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने इसे ‘लव ज़िहाद को बढ़ावा’ देने वाला ऐड बताया और इसे हटाने की मांग कर रहे थे.

इस ऐड को लेकर तनिष्क़ ने बहुत ट्रोल होने के बाद सोमवार को अपना ऐड वापस ले लिया. कंपनी की ओर से एक बयान जारी कर कहा गया कि ‘एकत्वम अभियान का मकसद, इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान विभिन्न क्षेत्र के लोगों, स्थानीय समुदायों और परिवारों से एक साथ आकर जश्न मनाने का है. लेकिन इस फिल्म पर गंभीर व उकसाने वाली प्रतिक्रियाएं मिली, जो कि फिल्म के उद्देश्य से बिल्कुल उलट है. हम बेवजह भावनाओं के इस तरह उत्तेजित होने से बेहद दुखी हैं और हमारे कर्मचारियों, साझेदारों और स्टोरकर्मियों की सुरक्षाा को ध्यान में रखते हुए इस फिल्म को वापस लेते हैं.’

Also read:  किसान आंदोलनः समाधान की दिशा में एक और पहल, लेकिन ‘धर्मसंकट’ में संयुक्त मोर्चा 

इस ऐड में एक गर्भवती महिला की गोदभराई दिखाई गई है, जिसने साड़ी पहन रखी है और उसकी सास सेरेमनी में ले जा रही हैं. वीडियो खत्म होने के बाद महिला अपनी सास, जिन्होंने सलवार सूट पहन रखा है और सिर पर दुपट्टा डाल रखा है, उससे पूछती है- मां, लेकिन यह रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं न, इसपर सास का जवाब आता है- लेकिन बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न.

Also read:  बिहार चुनाव: पीएम मोदी करेंगे 12 चुनावी रैलियां, सभी में नीतीश रहेंगे मौजूद, जानें- पहली सभा कब?

इस ऐड का विरोध करते हुए ट्विटर पर कुछ लोगों ने कहा था कि यह ऐड लव जिहाद और फर्जी धर्मनिरपेक्षता को बढ़ावा दे रहा है. ऐड के विरोध में एक यूजर ने लिखा कि ‘ऐड्स में हमेशा मुस्लिम पति और मुस्लिम पत्नी ही क्यों दिखाते हैं, हिंदू पति और मुस्लिम पत्नी क्यों नहीं?’