English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-07-20 194009

एक प्रमुख कुवैती श्रमिक कार्यकर्ता ने कुवैती अधिकारियों से श्रम की कमी को कम करने के लिए विवादों के मामलों में घरेलू कामगारों को नियोक्ताओं के बीच स्थानांतरित किए जाने पर प्रतिबंध पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है।

 

घरेलू श्रम मामलों के कुवैती विशेषज्ञ बासम अल शमीरी ने कुवैती अखबार अल अंबा से कहा कि इस संबंध में एक निर्णय जारी किया जाना चाहिए और निर्वासन पहला कदम नहीं होना चाहिए। पहला कदम उन श्रमिकों को फिर से नियुक्त करना होना चाहिए जिन्हें बंद कर दिया गया है। यदि यह असंभव है तो श्रमिकों को देश छोड़ने से पहले उनका पूरा बकाया मिल जाना चाहिए।”

Also read:  'अरब अरबपतियों के वर्ग' में कोई कुवैती सूचीबद्ध नहीं है

अल शाहमीरी के अनुसार, कुवैत के रोजगार बाजार को घरेलू कामगारों के पुनर्वास और श्रम बाजार में वापस लाकर स्थिर और आसान बनाने की जरूरत है। जब घरेलू कामगार छुट्टी पर जाता है या छुट्टी पर जाता है, तो अंतिम मंजूरी को मंजूरी दी जानी चाहिए, जो दर्शाता है कि उसके सभी बकाया का भुगतान कानून के अनुसार किया गया है।

Also read:  कतर ने 18 मार्च को 153 कोविड -19 मामलों की रिपोर्ट दी

इसी तरह का उपाय पड़ोसी देशों में भी है। यह कार्यक्रम निजी क्षेत्र और घरेलू कामगारों दोनों के लिए सफल साबित हुआ है, जिससे श्रमिकों के वित्तीय अधिकारों के उल्लंघन के मामलों में 90% की कमी आई है, जिससे ये देश सभी प्रकार के श्रमिकों के लिए आकर्षक बन गए हैं। वैश्विक COVID-19 प्रतिबंधों के कारण, कुवैत ने हाल के महीनों में कई क्षेत्रों में श्रमिकों की कमी का अनुभव किया है।