English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

महामारी कोविड-19 से चरमराई अर्थव्यवस्था (Covid-19 hit economy) में उपभोक्ता के बीच मांग और उनकी खर्च करने की क्षमता (Consumer Spending) को बढ़ाने के लिए सोमवार को वित्त मंत्रालय ने कुछ प्रस्ताव पेश किए हैं. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने बाजार में उपभोक्ताओं के पैसे डालने के लिए कैश वाउचर स्कीम और स्पेशल फेस्टिवल एडवांस स्कीम वगैरह की घोषणा की है.

Also read:  शरद यादव की बेटी सुभाषिनी ने थामा कांग्रेस का 'हाथ', बिहार विधानसभा चुनाव में मिल सकता है टिकट

वित्त मंत्री ने कहा कि सप्लाई थोड़ी सामान्य हुई है लेकिन उपभोक्ताओं की मांग अभी भी प्रभावित है. उन्होंने कहा कि ‘कोविड-19 ने अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है. लेकिन सरकार ने गरीब और कमजोर तबके की जरूरतों को लेकर आत्मनिर्भर भारत पैकेज में कदम उठाए हैं.’

Also read:  Bihar Election 2020: गांवों में बरसे वोट, शहरी इलाकों में छाए रहे बादल

उन्होंने कहा कि ‘डिमांड को विवेकपूर्ण तरीके से बढ़ाने के लिए तैयार किए गए ये प्रस्ताव पेश किए जा रहे हैं. कुछ प्रस्ताव खर्च क्षमता को बढ़ाने के लिए हैं तो कुछ सीधे-सीधे GDP में बढ़ोतरी के लिए हैं.’ उन्होंने बताया कि अर्थव्यवस्था में डिमांड को बढ़ाने के लिए आज जो प्रस्ताव पेश किए जा रहे हैं, वो दो वर्गों में बंटे हुए हैं- उपभोक्ता व्यय और पूंजीगत व्यय.