English മലയാളം

Blog

नई दिल्ली: 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं. उन्होंने एक वीडियो जारी कर इसकी सूचना दी और चीन को सख्त लहजे में चेतावनी दी है कि दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण फैलाने की उसे बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी. ट्रम्प ने कहा, ‘चीन ने अमेरिका और पूरी दुनिया को जो बीमारी दी है उसकी बड़ी क़ीमत उसे चुकानी पड़ेगी.” इसके साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने दावा किया कि वो Regeneron (REGN COV2) नाम की दवा से ठीक हुए हैं. उन्होंने इस दवा को कोविड-19 का शर्तिया इलाज बताया है.

Also read:  सबरीमाला मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खुला : एक दिन में 250 लोगों को दर्शन की इजाजत, COVID टेस्ट जरूरी

ट्रम्प ने कहा कि वो चाहते हैं कि आमेरिका का राष्ट्रपति जिस दवा से ठीक हुआ है, देश के लोग भी उसी दवा से ठीक हों. चुनावी समय में उन्होंने कहा कि वो देशवासियों को ये दवा बिल्कुल फ्री दिलाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि जब डॉक्टरों ने इसके बारे में बताया तो ख़ुद ये दवा लेने का फ़ैसला किया. ट्रम्प ने कहा, “जो इलाज मुझे मिला हर अमेरिकी को वही इलाज और वही दवा मुफ्त मिलेगी.”

Also read:  एनडीए की बैठक रविवार को दोपहर 12:30 बजे , चुनेंगे अपना नेता : नीतीश कुमार

ट्रम्प के इस बयान के बाद REGENERON ने FDA में अपनी दवा के इमरजेंसी अप्रूवल की अर्ज़ी दी है. हालाँकि दवा कितनी कारगर है इसका सत्यापन अभी नहीं हो सका है.

इस बीच, आज (गुरुवार, भारतीय समयानुसार) सुबह डेमोक्रेटिक पार्टी की उप-राष्ट्रपति पद की भारतीय मूल की उम्मीदवार कमला हैरिस (Kamala Harris) ने कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले में ट्रम्प सरकार को जमकर घेरा. उन्होंने कहा,  ‘अगर पब्लिक हेल्थ प्रोफेशनल्स, अगर डॉक्टर  या दूसरे डॉक्टर हमसे कहेंगे कि ये हमें लेनी चाहिए, तो सबसे पहले वैक्सीन मैं लूंगी लेकिन अगर डोनाल्ड ट्रम्प वैक्सीन लेने के लिए कहेंगे तो मैं इसे नहीं लूंगी.’