English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-07-13 110727

ट्विटर और टेस्ला के मालिक एलन मस्क के बीच विवाद गहराता जा रहा है। जिस तरह से एलन मस्क ने ट्विटर को खरीदने की डील को रद्द किया उसके बाद ट्विटर ने उन्हें कोर्ट में चुनौती दी है।

 

ट्विटर की ओर से एलन मस्क के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है जिसमे कहा गया है कि ट्विटर ने 44 बिलियन डॉलर की डील को रद्द करके डील का उल्लंघन किया है। साथ ही ट्विटर ने कोर्ट से अपील की है कि वह दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति से इस डील को पूरा करने के लिए कहे।

मस्क के खिलाफ दायर केस में कहा गया है कि एलन मस्क को ऐसा लगता है कि वह जब चाहे अपना मन बदल सकते हैं, कंपनी को बर्बाद कर सकते हैं, उसके कामकाज को खत्म कर सकते हैं, शेयरधारकों को बर्बाद कर सकते हैं और आसानी से यूं ही निकल सकते हैं। माना जा रहा है कि वॉल स्ट्रीट के इतिहास में यह सबसे बड़ा मुकदमा है, जिसमे दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति शामिल है। शुक्रवार को मस्क ने कहा था कि वह इस डील को इसलिए रद्द कर रहे हैं क्योंकि ट्विटर ने डील की शर्तों का उल्लंघन किया है, वह फर्जी अकाउंट की जानकारी देने में विफल रहा है, जोकि किसी भी बिजनेस को मापने का मौलिक कारक है।

Also read:  अब ड्रोन से मिलेगी मौसम जानकारी, मौसम पूर्वानुमान के आंकड़ों को पता लगाने के लिए ड्रोन के प्रयोग की तैयारी कर रहा मौसम विभाग

इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला के एग्जेक्युटिव ऑफिसर एलन मस्क पर आरोप है कि उन्होंने समझौते की शर्तों का उल्लंघन किया है। इसको लेकर कोर्ट में एक लंबी सूचि दायर की गई है, जिसमे कहा गया है कि मस्क के इस फैसले से कंपनी का व्यवसाय काफी प्रभावित हुआ है। बता दें कि एलन मस्क ने जब ट्विटर की डील को रद्द किया तो उसके बाद ट्विटर के शेयर में काभी बड़ी गिरावट देखने को मिली है, कंपनी के शेयर 34.06 डॉल पहुंच गए जोकि पहले 50 डॉलर से अधिक थी।

Also read:  कांग्रेस के चिंतन शिविर में के बाद राजस्थान कांग्रेस की बढ़ी चिंता, पंकज सुराणा ने की भाजपा ज्वाइन

मस्क ने कहा कि उन्होंने विलय को इसलिए रद्द किया क्योंकि कंपनी स्पैम अकाउंट की जानकारी देने में विफल रही, कंपनी ने गलत आंकड़े दिए जिसके चलते कंपनी का आंकलन गलत हुआ। बता दें कि ट्विटर के विलय की डील रद्द होने के बाद टेस्ला के शेयर में 30 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है, कंपनी के शेयर मंगलवार को 699.21 डॉलर पहुंच गए। लीगल एक्सपर्ट का कहना है कि इस कानूनी लड़ाई में ट्विटर का पलड़ा भारी है क्योंकि जिस तरह से मस्क ने डील को किया, उसके चलते उन्हें मुश्किल हो सकती है।

Also read:  बड़ी कामयाबी : खालिस्तानी आतंकी सुख बिकरीवाल को दुबई से भारत लाया गया