English മലയാളം

Blog

वॉशिंगटन: 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने आखिरकार व्हाइट हाउस (White House) छोड़ने के संकेत दिए हैं. सोमवार को अगले राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) के प्रशासन के लिए रास्ता बनाने वाली सरकारी एजेंसी ने कहा कि वो सत्ता हस्तांतरण में लगाए गए रोक को आखिरकार हटा रही है. इसके बाद ट्रंप ने भी इशारे दिए कि अब जनरल सर्विसेज़ एडमिनिस्ट्रेशन को ‘वो करना चाहिए जो करने की जरूरत है.’ इस तरह ट्रंप, जो बाइडेन से अपनी जीत स्वीकार करने के बिल्कुल करीब आ गए हैं.

हालांकि, उसी ट्वीट में उन्होंने फिर एक बार यह कहा कि वो हार मानने से इनकार कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ‘हमारा केस मजबूती से चल रहा है. हम अच्छी लड़ाई जारी रखेंगे और मुझे विश्वास है कि हम जीतेंगे.’

Also read:  फेसबुक और ट्विटर के बाद अब Youtube ने भी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर एक सप्ताह के लिए बैन लगा दिया ,हिंसा फैलने की चिंता जताई

हालांकि, रिपब्लिकन प्रशासन का GSA को आगे की कार्रवाई करने और बाइडेन प्रशासन के साथ काम करने की अनुमति देने से साफ है कि ट्रंप को भी आखिर अंत करीब नजर आ गया है. हालांकि, पिछले तीन हफ्तों से वो बिना किसी सबूत के यह दावे बार-बार कर रहे हैं कि उनसे यह चुनाव ‘चुराए गए हैं.’

Also read:  कंगना रनौत ने जो बाइडेन को बताया 'गजनी बाइडेन' बोलीं- 'एक साल से ज्यादा नहीं ट‍िक पाएंगे

अब इसका मतलब है कि बाइडेन की टीम को फंड, ऑफिस स्पेस और फेडरल अधिकारियों से मिलने का अधिकार मिल जाएगा. बाइडेन के ऑफिस, जिसने इसके घंटों पहले घोषणा की थी कि अमेरिकी विदेश नीतियों और सुरक्षा पदों के लिए बहुत ही अनुभवी लोगों के एक समूह की नियुक्ति होगी, ने कहा कि ‘GSA अब सत्ता के आसान और शांतिपूर्ण हस्तांतरण में जरूरी मदद की अनुमति दे देगा.’

बाइडेन के ट्रांजिशन डायरेक्टर योहानेस अब्राहम ने एक बयान जारी कर कहा कि ‘आने वाले दिनों में, ट्रांजिशन अधिकारी फेडरल अधिकारियों से मिलना शुरू करेंगे ताकि महामारी को लेकर हो रहे काम, राष्ट्रीय सुरक्षा हितों पर पूरी डिटेल और सरकारी एजेंसियों को खोखला करने की ट्रंप प्रशासन की कोशिशों को पूरी तरह समझा जा सके.’

Also read:  किसान आंदोलन में ग्रेटा थनबर्ग से लेकर दिशा रवि तक क्यों आईं लपेटे में,जानिए पूरा मामला

ट्रंप की ओर से यह संकेत मिशीगन की ओर से अपने चुनावी नतीजों की दोबारा पुष्टि करने के बाद आया है. वहीं, दूसरी ओर ज्यादा शक्तिशाली ट्रंप के समर्थकों ने मांग की है कि ट्रंप इस गतिरोध को खत्म करें.