English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-09-22 104044

तुर्की के राष्ट्रपति रिचेप तैयप अर्दोआन ने एक बार फिर से संयुक्त राष्ट्र महासभा में जम्मू-कश्मीर का राग छेड़ा है। भारत की ओर से पहले कड़ी आपत्ति जताने के बाद भी अर्दोआन ने यह रुख अपनाया है।

 

इस पर भारत ने भी तुर्की को घेरते हुए साइप्रस का मुद्दा उठाया है। अर्दोआन के बयान के कुछ घंटों के अंदर ही विदेश मंत्री एस जयशंकर ने तुर्की के अपने समकक्ष मेवलुत कावुसोगलु से मुलाकात की और साइप्रस का मुद्दा उठाया। इस मीटिंग की जानकारी देते हुए जयशंकर ने ट्वीट भी किया। उन्होंने लिखा, ‘तुर्की के विदेश मंत्री से मुलाकात की और उनसे कई मुद्दों पर बात हुई। इनमें यूक्रेन का संकट. खाद्य सुरक्षा, जी-20 देश और साइप्रस शामिल हैं।’

Also read:  सीएम खट्टर बोले चंडीगढ़ को नहीं जाने देंगे कहीं, हरियाणा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की बात कही

दरअसल साइप्रस का मुद्दा तुर्की के लिए हमेशा से दुखती रग रहा है और भारत ने कश्मीर पर बोलने के बदले में उसकी इसी नस को दबाया है। भारत की इस कूटनीति को तुर्की के कश्मीर राग का करारा जवाब माना जा रहा है। साइप्रस का संकट 1974 में शुरू हुआ था, जब तुर्की ने हमला करके उसके उत्तरी हिस्से पर कब्जा जमा लिया था। सैन्य तख्तापलट के चलते साइप्रस में हालात बिगड़ गए थे और उसका फायदा उठाते हुए तुर्की ने यह कब्जा किया था। तब से ही भारत इस बात का पक्षधर रहा है कि इस मामले का हल संयुक्त राष्ट्र के अनुसार निकाला जाए।

साइप्रस का मुद्दा उठा भारत ने रखा दुखती रग पर हाथ

साइप्रस के साथ भारत के हमेशा से अच्छे संबंध रहे हैं और कश्मीर मुद्दों पर वह बीते 5 दशकों से भारत के स्टैंड का समर्थन करता रहा है। जयशंकर और तुर्की के विदेश मंत्री की मुलाकात से कुछ घंटों पहले अर्दोआन ने संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि भारत और पाकिस्तान को आजाद और संप्रभु मुल्क बने 75 साल गुजर गए हैं, लेकिन अब तक दोनों देशों में शांतिपूर्ण संबंध नहीं हैं। यह दुर्भाग्य की बात है। हम उम्मीद करते हैं कि कश्मीर के मुद्दे का समाधान होगा और वहां स्थायी शांति आ सकेगी। बता दें कि बीते कुछ सालों में कई बार तुर्की के राष्ट्रपति संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर का मुद्दा उठा चुके हैं।

Also read:  मिस्र के कॉप्टिक चर्च में आग से 41 की मौत, 14 गंभीर रूप से झुलसे, राष्ट्रपति ने क्रिश्चियन पोप से जताई संवेदना

2020 और 2021 में भी तुर्की ने की थी हिमाकत

इससे पहले 2021 में अर्दोआन ने कश्मीर का जिक्र करते हुए कहा था कि हम उम्मीद करते हैं कि इस मसले का हल दोनों पक्ष शांति से करेंगे। वहीं 2020 में भी उन्होंने यह मुद्दा उठाया था। दोनों बार भारत की ओर से करारा जवाब दिया गया था। गौरतलब है कि हाल ही में तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन ने एससीओ समिट के इतर पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। तुर्की इन दिनों गहरे आर्थिक संकट से गुजर रहा है। ऐसे में उनकी इस मुलाकात को कारोबारी संबंधों को बेहतर करने की कोशिश के तौर पर देखा गया था।

Also read:  Exit Poll: यूपी में मतदान खत्म, क्या दूबारा लौटेगा योगी राज, जानें तमाम चैनलों के Exit Poll