English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-07-13 111836

विधानसभा चुनाव 2023 नजदीक आने के साथ ही पार्टी अध्यक्ष पद सहित कई मुद्दों पर राज्य भाजपा के भीतर अंदरूनी कलह बढ़ती जा रही है। भले ही अपदस्थ मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब मुख्यमंत्री बनने के बाद भी दो साल से अधिक समय तक पार्टी अध्यक्ष के पद पर बने रहने में कामयाब रहे, लेकिन नए मुख्यमंत्री डॉ माणिक साहा चुनावी वर्ष में इस पद को बरकरार नहीं रख पाएंगे।

 

पार्टी के अगले अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर भाजपा में पहले से ही गुटबाजी शुरू हो गई है। भाजपा सूत्रों ने बताया कि इस समय जेल में इस पद के दो प्रबल दावेदार हैं और सहकारिता मंत्री राम प्रसाद पॉल और आयोजन सचिव किशोर बर्मन हैं। राम प्रसाद पॉल, जिन्होंने केंद्रीय नेतृत्व के हस्तक्षेप पर बिप्लब कुमार देब के पक्ष में संगठनात्मक चुनाव जीतने के बाद भी 2016 में स्वेच्छा से पद के लिए अपना दावा वापस ले लिया था, वह पद संभालने के इच्छुक हैं।

Also read:  जीतन राम मांझी के भगवान राम पर दिए विवादित बयान पर अनिल विज का पलटवार कहा-धरती पर बोझ है यह व्यक्ति...

इसके अलावा अगरतला कस्बे की रामनगर सीट से मौजूदा विधायक सुरजीत दत्ता को बाहर किए जाने की संभावना है तो एक से अधिक दावेदार हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता पापिया दत्ता, राजीव भट्टाचार्जी आदि चुनाव लड़ने के लिए एक सीट सुरक्षित करने की कोशिश कर रहे हैं।

Also read:  बांबे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को लगाई फटकार, कहा- राज्‍य के गांवों में हेलीपैड से अधिक जरूरत सड़कों की है

भाजपा के सूत्रों ने कहा कि नामांकन के लिए अंदरूनी लड़ाई इस बार कड़वी होगी क्योंकि रतन चक्रवर्ती (खैरपुर), अरुण चंद्र भौमिक (बेलोनिया) और संभवत: रतन लाल नाथ सहित कुछ पुराने विधायकों को उम्र के कारण हटा दिया जा सकता है, हालांकि अंतिम निर्णय सभी मौजूदा विधायकों के भाग्य को पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व गहनता से विचार करेगा।

Also read:  दुबई यात्रा: अमीरात ने 28 दिसंबर से अंगोला, गिनी से उड़ानें निलंबित कीं

सूत्रों ने कहा कि अगले विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के रूप में नए और सक्षम चेहरों को शामिल करने का प्रयास किया जाएगा क्योंकि कुछ बागी विधायकों जैसे डी.सी. हरंगखवाल और बरबामोहन त्रिपुरा को भी नामांकन से हटाए जाने की संभावना है।