English മലയാളം

Blog

Screenshot 2023-09-23 104609

दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ (DUSU) चुनाव का मतदान शुक्रवार को संपन्न हुआ। अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव और संयुक्त सचिव के सभी चार पदों के नतीजे शनिवार को घोषित किए जाएंगे। डूसू चुनाव के लिए मतगणना शुरू हो गई है।

काउंटिंग से पहले दिल्ली यूनिवर्सिटी के नॉर्थ कैंपस इलाके में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। डूसू चुनाव के लिए शुक्रवार को दिन की पाली में सुबह 8:30 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक और शाम की पाली में दोपहर 3:00 बजे से शाम 7:30 बजे तक वोट डाले गए थे।

कब कितने प्रतिशत हुए मतदान?

मुख्य चुनाव अधिकारी प्रोफेसर चंद्रशेखर ने मतदान के 42 फीसदी रहने की घोषणा की है। करीब तीन साल पहले 2019 में हुए आखिरी डूसू चुनाव में मतदान प्रतिशत 39.90 रहा था, जबकि 2018 और 2017 में मतदान प्रतिशत 44.46 और 42.8 फीसदी रहा था।

Also read:  बिजली सेक्टर के समक्ष उत्पन्न कोयला संकट को दूर करने के लिए केंद्र सरकार राज्यों पर ज्यादा कोयला आयात का बना रही दबाव

किस संगठन से कौन से उम्मीदवार?

डूसू की चार पोस्ट के लिए 24 प्रत्याशी आमने-सामने हैं। कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई (NSUI) के हितेश गुलिया अध्यक्ष, अभि दहिया उपाध्यक्ष, यक्षना शर्मा सचिव और शुभम कुमार चौधरी संयुक्त सचिव पद के लिए मैदान में हैं। एबीवीपी (ABVP) ने तुषार डेढ़ा को अध्यक्ष, सुशांत धनखड़ को उपाध्यक्ष, अपराजिता को सचिव और सचिन बैसला को संयुक्त सचिव पद के लिए चुनावी मैदान में उतारा है।

Also read:  हरिद्वार धर्म संसद में हेट स्पीट का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, सुप्रीम कोर्ट याचिका पर सुनवाई को तैयार

एसएफआई (SFI) ने अध्यक्ष पद के लिए आरिफ सिद्दीकी, उपाध्यक्ष के लिए अंकित, सचिव के लिए अदिति त्यागी, संयुक्त सचिव के लिए निष्ठा सिंह को प्रत्याशी बनाया है। AISA ने आयशा अहमद खान को अध्यक्ष, अनुष्का चौधरी को उपाध्यक्ष, आदित्य प्रताप सिंह को सचिव और संयुक्त सचिव पद पर अंजलि कुमारी को प्रत्याशी बनाया है।

डूसू चुनाव में एबीवीपी का दबदबा 

बता दें कि डूसू के पिछले 10 चुनावों में 40 पदों में से 29 पदों पर जीत हासिल करने वाली एबीवीपी का दबदबा रहा है। डूसू चुनाव में इस बार भी ABVP और NSUI में ही कांटे की टक्कर है।  2019 डूसू चुनाव में एबीवीपी ने चार सीटों में से तीन पर जीत दर्ज की थी।

Also read:  अग्निपथ भर्ती योजना के खिलाफ बिहार में युवाओं का विरोध प्रदर्शन, छात्रों ने रेल और सड़क यातायात बाधित कर दिया

चुनाव मैदान में सभी पदों के लिए प्रत्याशी

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP), कांग्रेस की छात्र शाखा नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी समर्थित स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) से संबद्ध भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्क्सवादी लेनिवादी (भाकपा-माले) ने सभी चार पदों के लिए प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारा है।