English മലയാളം

Blog

Screenshot 2022-09-22 152542

भारतीय रेलवे केन्द्र सरकार की डिजिटल इंडिया पहल को बढ़ावा देने के लिए रेलवे स्टेशनों पर खानपान इकाइयों से खाद्य पदार्थों की खरीद के लिए डिजिटल लेनदेन की व्यवस्था को प्रोत्साहित कर रहा है। देशभर में इस समय 8,878 स्थिर इकाइयों में डिजिटल भुगतान की सुविधा है।

 

इसके अलावा, ओवरचार्जिंग की शिकायतों को दूर करने के लिए खानपान इकाइयों में हैंडहेल्ड पीओएस मशीनें मुद्रित बिल और चालान बनाने के लिए प्रदान की जा रही हैं जो किए गए लेनदेन के सभी विवरणों को दर्शाती हैं। वर्तमान में 596 ट्रेनों में 3,081 पीओएस मशीनें उपलब्ध हैं। पीओएस मशीन के साथ 4,316 स्टैटिक यूनिट उपलब्ध कराए गए हैं।

Also read:  किसानों की आज बैठक में सरकार के प्रस्ताव पर आखिरी फैसला

ट्रेनों में यात्रियों के लिए उपलब्ध विकल्पों की सीमा को बढ़ाने के लिए, भारतीय रेलवे पर ई- कैटरिंग सेवाएं शुरू की गई हैं। ई- कैटरिंग सेवाओं का प्रबंधन इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) द्वारा किया जाता है। यात्री ई-टिकट की बुकिंग के समय या ट्रेन में यात्रा करते समय ऐप, कॉल सेंटर, वेबसाइट और 1323 पर कॉल करके अपनी पसंद के भोजन का प्री-ऑर्डर कर सकते हैं। ई-कैटरिंग सेवा वर्तमान में 310 रेलवे स्टेशनों पर 1755 सेवा प्रदाताओं और 14 खाद्य एग्रीगेटर्स के माध्यम से उपलब्ध है, जो प्रतिदिन औसतन 41,844 भोजन की आपूर्ति करती है।

Also read:  सोनिया गांधी से मिले शशि थरूर, लड़ सकते हैं अध्यक्ष पद का चुनाव