English മലയാളം

Blog

Screenshot 2023-05-09 130059

द केरला स्टोरी’ के निर्माताओं ने पश्चिम बंगाल में फिल्म पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। निर्माताओं ने अपनी दलील के माध्यम से तमिलनाडु सरकार से राज्य भर में फिल्म दिखाने वाले सिनेमाघरों को सुरक्षा प्रदान करने की मांग की है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को नफरत और हिंसा की किसी भी घटना से बचने के लिए राज्य में फिल्म ‘द केरला स्टोरी’ के प्रदर्शन पर तत्काल प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया। बता दें कि पश्चिम बंगाल ‘द केरला स्टोरी’ फिल्म पर प्रतिबंध लगाने वाला पहला राज्य बन गया।

पश्चिम बंगाल के फैसले को लेकर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि उनकी समझ से परे है कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) चीफ ममता बनर्जी की सहानुभूति आतंकवादी संगठनों के साथ थी न कि केरल की मासूम लड़कियों के साथ नहीं। अनुराग ठाकुर ने सोमवार को दिल्ली के एक सिनेमा हॉल में फिल्म भी देखी।

Also read:  योगी सरकार में कौन है एकमात्र मुस्लिम मंत्री दानिश अंसारी, सपा को लेकर क्या कहा दानिश ने?

प्रोड्यूसर ने कहा था- फैसले के खिलाफ करेंगे कानूनी कार्रवाई

फिल्म के निर्माता विपुल शाह ने ममता सरकार के फैसले के बाद कहा था कि वे टीएमसी सरकार की ओर से लगाए गए प्रतिबंध के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे। वहीं, फिल्म पर बैन के पीछे बंगाल सरकार ने तर्क दिया कि घृणा और हिंसा की किसी भी घटना से बचने और राज्य में शांति बनाए रखने के लिए मुख्यमंत्री ने ‘द केरला स्टोरी’ के प्रदर्शन पर तत्काल प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया है। प्रतिबंध का उल्लंघन करने वाले किसी भी सिनेमा हॉल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

देशभर में फिल्म पर प्रतिबंध की मांग, 15 मई को SC में सुनवाई

उधर, फिल्म ‘द केरला स्टोरी’ पर केरल हाई कोर्ट के रोक से इनकार वाले फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। सीनियर वकील कपिल सिब्बल ने मांग की है कि इस मामले पर जल्द सुनवाई की आवश्यकता है, जिसके बाद चीफ जस्टिस ने 15 मई को सुनवाई की बात कही है।

Also read:  कृषि सुधार कानून अहम, लेकिन प्रभावितों की रक्षा करनी ही होगी : IMF

बता दें कि, केरल हाई कोर्ट ने 5 मई को फिल्म की रिलीज पर रोक की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया था। कोर्ट ने कहा था कि फिल्म के ट्रेलर में किसी विशेष समुदाय के खिलाफ कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। कोर्ट ने ये भी कहा कि फिल्म के ट्रेलर में किसी विशेष धर्म के खिलाफ कुछ भी नहीं है।

क्यों चर्चा में है फिल्म ‘द केरला स्टोरी’

प्रोड्यूसर विपुल अमृतलाल शाह की फिल्म ‘द केरला स्टोरी’ 5 मई को देशभर में रिलीज हुई है। फिल्म के रिलीज पर रोक लगाने की मांग करते हुए हाई कोर्ट में याचिकाएं दाखिल की गई थी, हालांकि केरल हाईकोर्ट ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने कहा कि फिल्म के ट्रेलर को देखकर पता चलता है कि इसमें किसी विशेष समुदाय के खिलाफ कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है।

Also read:  दिल्ली में दूतावास के बाहर हुए ब्लास्ट को लेकर इजरायल के प्रधानमंत्री ने की पीएम मोदी से बात

दरअसल, ‘द केरला स्टोरी’ में ऐसी लड़कियों की कहानी है जो नर्स बनना चाहती थीं, लेकिन आतंकी संगठन ISIS उन्हें झांसा देकर आतंकी बना देता है। सेंसर बोर्ड ने ‘द केरला स्टोरी’ को A सर्टिफिकेट दिया है। साथ ही फिल्म के कई सीन, डायलॉग पर भी कैंची चलाई गई है।

ताबड़तोड़ कमाई कर रही है ‘द केरला स्टोरी’

द केरला स्टोरी पर जारी विवाद के बीच फिल्म ने ताबड़तोड़ कमाई की है। छोटी बजट में बनी इस फिल्म को 5 मई को रिलीज किया गया था। 4 दिन में फिल्म का कलेक्शन 45 करोड़ हो गया है। इस फिल्म को भाजपा शासित मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में टैक्स फ्री कर दिया गया है।